रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

पंडरी कपड़ा मार्केट में 78 दुकानदारों ने नियमों के विरुद्ध सड़क की तरफ दीवार को तोड़कर शटर लगा दिया। यहीं से दुकान संचालक, ग्राहक आते-जाते हैं। इससे जाम के हालात बनते हैं। इसके चलते नगर निगम ने बीते दिनों सभी 78 दुकानदारों को नोटिस थमाया। दुकानों में नोटिस चस्पा करवाया, लिखा कि सात दिन के भीतर शटर बंद कर दीवार खड़ी करें। नहीं करेंगे तो निगम आठवें दिन खुद दीवार खड़ी करवा देगा। करीब तीन साल पुराना जिन एक बार फिर बाहर निकला है। उस वक्त निगम ने कई दुकानों पर बुल्डोजर चलवा दिया था। कई दुकानदारों ने दीवारें उठवा ली थीं। मगर विवाद कुछ शांत होने के बाद फिर से नियमों का उल्लंघन करते रहे हैं। अब एक बार फिर निगम के नोटिस ने दुकानदार हड़बड़ा गए। ये कोर्ट पहुंचे। कोर्ट ने 16 मई को आदेश दिया कि दुकानदार निगम को महीने भर में आवेदन करें, निगम तीन महीने में सुनवाई करे और आदेश पारित करे।

सूत्र बताते हैं कि निगम इस बार नियमों से डिगेगा नहीं, बल्कि इस विवाद को जड़ से खत्म करने की तैयारी में है। बता दें कि वर्तमान में दुकानदारों की गाड़ियां सड़क पर ही पार्क होती हैं, ग्राहकों की भी। शाम से लेकर सुबह तक सिर्फ जाम लगा रहता है, यह स्थिति तब है जब निगम ने सड़क चौड़ीकरण करवाया। दुकानदारों की तरफ से कहा गया है कि इसमें रास्ता निकालने की आवश्यकता है।

जानें आरडीए ने किन शर्तों पर आवंटित की थी दुकानें-

रायपुर विकास प्राधिकरण (आरडीए) ने 1978 में टाउन एंड कंट्री प्लानिंग से जो नक्शा पास कराया, उसके मुताबिक दुकानों का शटर सड़क की तरफ खोला ही नहीं जाना है। दुकानों के शटर मार्केट के अंदर की तरफ ही होंगे। यह शर्त इसलिए रखी गई, ताकि सड़क की तरफ से दुकानदार और ग्राहक प्रवेश न करें। ऐसा होने से सड़क पर इनकी गाड़ियां पार्क नहीं होंगी। अगर गाड़ियां पार्क नहीं होगीं तो ट्रैफिक जाम नहीं होगा।

ग्राहकों को खींचने की जद्दोजहद- दुकानदारों ने सड़क की तरफ शटर तो रखा ही है, ऐसा डिस्प्ले तैयार किया है कि ग्राहक आकर्षित हों। ग्राहकों को मार्केट के अंदर से न आने पड़ा, इसलिए नियम तोड़े जा रहे है।

-------------------

कोर्ट के आदेशानुसार दुकानदारों का पक्ष सुनने के बाद कार्रवाई की जाएगी। नियमानुसार कोई भी दुकानदार सड़क की तरफ दुकानों का शटर नहीं खोल सकता है। यह दुकानों के निर्माण के समय तय शर्तों में उल्लेखित है।- संतोष पांडेय, जोन 2 आयुक्त, नगर निगम