रायगढ़। नईदुनिया प्रतिनिधि

प्राइमरी एवं मिडिल स्कूल के लिए वार्षिक परीक्षा की तैयारियों के लिए शिक्षा विभाग ने अनोखी व्यवस्था की है। मूल्यांकन कार्य को और गुणवत्तायुक्त करने के लिए इस बार से पांचवी आठवीं की उत्तरपुस्तिकाओं की जांच संबंधित शिक्षक नहीं करेंगे और इसके लिए ब्लाक बदलकर मूल्यांकन का काम कराया जाएगा।

साल भर पहले संचालनालय शिक्षा विभाग ने प्राइमरी और मिडिल स्तर के मूल्यांकन के लिए बोर्ड का पैटर्न अपनाया था और शिक्षा गुणवत्ता सुधार के लिए 5वीं और 8वी की सालाना परीक्षाएं बोर्ड की तर्ज पर लेने का फैसला लिया था। अब शिक्षा सत्र 2018-19 के लिए इसमें एक और नई व्यवस्था जोड़ी जा रही है। इसके तहत इन दोनों कक्षाओं की परीक्षाओं के बाद उत्तरपुस्तिका के मूल्यांकन की जिम्मेदारी शालाओं में छात्रों से संबंधित शिक्षकों की नहीं रहेगी। परीक्षा खत्म होते ही कापियों को दूसरे ब्लॉकों में मूल्यांकन करने के लिए भेजा जाएगा। रायगढ़ जिले में 5 वीं एवं 8 वीं के करीब 55 हजार छात्र-छात्राएं हैं। इसलिए 15-20 दिन के अंदर उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन का काम पूरा कर लिया जाएगा और परीक्षा परिणाम की एक कापी जिला शिक्षा अधिकारी को भेजी जाएगी। इसके बाद निर्धारित समय में परीक्षा परिणाम संबंधित स्कूल में घोषित किए जाएंगे। उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन की इस नई व्यवस्था में यह साफ हो जाएगा कि सालभर में शिक्षक-शिक्षिकाओं का योगदान कैसा रहा है और स्कूल में पढ़ाई के बाद छात्रों की परफार्मेंस कैसी है। इसके लिए शिक्षा विभाग ने सभी संबंधित प्राचार्यों को सूचना भेजी है।