कांकेर। नईदुनिया प्रतिनिधि

शहर के अलबेलापारा स्थित उद्यान इन दिनों शरााबियों का अड्डा बना हुआ। रोजाना अंधेरा होते ही उद्यान में शराबियों की महफिल जम जाती है। शराबखोरी के बाद शराबी खाली बोतलें उद्यान में ही फेंक देते हैं। उद्यान में चारों ओर खाली बोतलें और डिस्पोजल पड़ी हुई नजर आती हैं। इसके कारण आम लोग यहां आने में कतराने लगे हैं।

नगर पालिका ने अलबेलापारा में तालाब के किनारे उद्यान बनाया है लेकिन देखरेख के अभाव में उद्यान उजाड़ नजर आने लगा है। साथ ही रोज शाम अंधेरा होने के बाद गार्डन में शराबियों की महफिल जमने लगती है। अंधेरे का फायदा उठाकर शराबी बेखौफ सार्वजनिक स्थान पर शराब सेवन करते हैं। इसके चलते गार्डन में चारों ओर गंदगी फैली हुई है।

नगर पालिका न तो गार्डन की देखरेख की ओर ध्यान दे रही और न ही साफ सफाई की ओर। गार्डन में फैली शराब की बोतलों व गंदगी के कारण लोगों की आवाजाही भी कम होने लगी है। गार्डन में घुमने के लिए पहुंचे मनीष जेमा ने बताया कि ठंड का मौसम शुरू होते ही लोग सुबह ताजी हवा के लिए सुबह शाम गार्डन में आ रहे थे। गार्डन में असमाजिक तत्वों के जमावड़े के कारण दिनों दिन लोगों की संख्या कम होती जा रही है। नगरपालिका को इस ओर ध्यान देना चाहिए और गार्डन में साफ-सफाई के साथ चौकीदार की व्यवस्था भी की जानी चाहिए।

बाक्स

गार्डन में टूटे हुए हैं झूले

अलबेलापारा गार्डन में बच्चों के लिए नगरपालिका ने झूले लगाए थे। देखरेख के अभाव में झूले टूटे पड़े हुए हैं। साथ बच्चों के लिए बनाया गया स्वीमिंग पुल भी गंदा पड़ा है और वहां शराब की बोतलें तैर रही हैं। अपने छोटे बच्चों को गार्डन लेकर पहुंचे हेमंत साहू ने कहा कि शहर में बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं है। शहर में दो छोटे गार्डन हैं, इसमें अलबेलापारा स्थित गार्डन में झूले टूटे हुए होने के कारण बच्चों के लिए मनोरंजन के साधनों का अभाव है। नगर पालिका को गार्डन में लगे झूलों की मरम्मत कराई जानी चाहिए।

-----------------