अंबिकापुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

शहर की महिला ऑटो चालकों ने राजधानी रायपुर में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से मुलाकात कर अपनी समस्या बताई। महिला आटो चालकों की समस्या निराकरण के लिए मुख्यमंत्री द्वारा जारी निर्देश का असर यह हुआ कि रेलवे स्टेशन अंबिकापुर में 1-4 पुलिस बल की तैनाती के अलावा गांधी चौक पर महिला ऑटो चालकों के लिए अलग से स्टैंड की व्यवस्था कर दी गई। कथित रूप से कतिपय पुरुष ऑटो चालकों द्वारा महिला ऑटो चालकों के साथ अपमानजनक व्यवहार को भी पुलिस ने जांच के दायरे में लिया है। संबंधितों का बयान दर्ज कर जांच की जा रही है।

अंबिकापुर शहर में ऑटो चलाने वाली महिलाओं की संख्या बढ़ी है। ऑटो चलाकर अपने पैरों पर खड़ी हुई महिलाएं समस्याओं के निराकरण के लिए भी सजग नजर आती हैं। महिला आटो चालकों के प्रतिनिधिमंडल ने आटो एसोसिएशन के अध्यक्ष ओनिमेश सिन्हा व एसोसिएशन की प्रमुख सदस्य गीता सिंह के नेतृत्व में रायपुर जाकर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से मुलाकात की। एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने बताया कि लगभग 45 मिनट मुख्यमंत्री से चर्चा करने के साथ ही उन्हें एक ज्ञापन भी सौंपा गया। ज्ञापन में कुछ पुरुष ऑटो चालकों द्वारा किए जा रहे दुर्व्यवहार की शिकायत भी की गई। एसोसिएशन के संयोजक ओनिमेश सिन्हा ने बताया कि मुख्यमंत्री ने महिला ऑटो चालकों की समस्याओं को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक से चर्चा कर इन समस्याओं के निराकरण का निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री को प्रतिनिधिमंडल को आश्वस्त किया है कि अब किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं आएगी। यदि अब कोई समस्या आती है तो वे सीधे उनके पास चले आएं। उनकी हर समस्याओं का समाधान किया जाएगा। प्रतिनिधिमंडल में गीता सिंह, संगीता यादव, ललिता यादव, रूबी खातून, सुषमा केरकेट्टा, फूलकुमारी लकड़ा, मधु चौहान, सुनेश्वरी चौहान, रानू रखशैल, तारावती प्रजापति, उषा जाटव, धनमेत यादव, ललिता भगत, मंजू गुप्ता, प्रियंका तिर्की, पंकज शामिल थे।

सीएसपी ने सुनी दोनों पक्षों की बात-

महिला ऑटो चालकों द्वारा स्थानीय प्रशासन के समक्ष शिकायतों को रख उसके निराकरण से पहले सीधे मुख्यमंत्री से मुलाकात कर भावनाओं से अवगत कराने का असर यह हुआ कि मंगलवार को महिला ऑटो चालकों की समस्याओं को लेकर पुलिस सक्रिय नजर आई। सीएसपी आरएन यादव ने महिला ऑटो चालकों के साथ ही उन पुरुष ऑटो चालकों से भी चर्चा की जिनके द्वारा कथित रूप से महिला आटो चालकों के साथ अपमानजनक व्यवहार किया जाता है। इस मामले में पुरुष आटो चालकों के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी भी चल रही है। महिला आटो चालकों ने सीएसपी को अलग से एक ज्ञापन भी सौंपा।

अलग से हो रही व्यवस्था-

रेलवे स्टेशन अंबिकापुर में ट्रेनों के आने-जाने के दौरान यात्रियों को बैठाने को लेकर ऑटो चालकों के बीच होने वाले वाद-विवाद को देखते हुए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जाने की तैयारी चल रही है। सीएसपी आरएन यादव ने मंगलवार को रेलवे स्टेशन पहुंचकर व्यवस्थाओं का भी जायजा लिया। उन्होंने बताया कि रेलवे स्टेशन में जयनगर थाने से 1-4 का पुलिस बल लगाया जाएगा। अंबिकापुर के गांधी चौक पर महिला ऑटो चालकों के लिए अलग से स्टैंड चिन्हांकित कर दिया गया है। महिला ऑटो चालकों की समस्याओं के निराकरण के साथ ही उनके द्वारा प्रस्तुत शिकायतों को भी जांच के दायरे में लिया गया है।