0 सरगुजा विवि में साइबर क्राइम पर व्याख्यानमाला

अंबिकापुर । नईदुनिया न्यूज

सरगुजा विश्वविद्यालय के जनसंपर्क विभाग द्वारा साइबर क्राइम के उन्मूलन एवं बचाव पर केंद्रित व्याख्यानमाला का आयोजन पं. दीनदयाल उपाध्याय सभागार में एएसपी रामकृष्ण साहू के मुख्य आतिथ्य में किया गया। मौके पर पूर्व कुलपति डॉ. सुनील कुमार वर्मा के साथ वर्तमान कुलपति प्रो.रोहिणी प्रसाद मंचासीन थे। एएसपी श्री साहू ने कहा कि युवा साइबर अपराध से सतर्क रहें। पहचान चुराना या गलत पोस्ट पर अपराध दर्ज हो सकता है।

मुख्य अतिथि रामकृष्ण साहू ने कहा कि संचार क्रांति से युग परिवर्तन हुआ है। उन्होंने कहा कि व्यक्तिगत पहचान चुराने की गलतियां युवाओं में अधिक दिखाई देती है। इसमें सजा हो सकती है। कभी भी अपने मोबाइल या सिम किसी अन्य व्यक्ति को नहीं देना चाहिए, इससे साइबर क्राइम का खतरा अधिक रहता है। हमें अपने पास वाले व्यक्ति से सावधानी रखनी चाहिए, क्योंकि इससे मोबाइल डाटा लीक होने का खतरा रहता है। युवा धर्म संप्रदाय के बारे में पोस्ट भेजने से बचें। मौके पर कुलपति प्रो. रोहिणी प्रसाद ने कहा कि संपन्नता के लिए विकास होता है, किन्तु संपन्नता के बाद अपराध भी होता है। सोशल मीडिया पर युवाओं के मन की चंचलता से जाने-अनजाने में साइबर क्राइम हो जाते हैं। इसलिए ऐसा अपराध न हो, हमें ध्यान रखना चाहिए। युवा अपने उद्देश्य से न भटकें तो इस व्यायाखान माला की यही सार्थकता होगी। प्रो.मधुर मोहन रंगा ने कहा कि कंप्यूटर को इंटरनेट द्वारा किसी प्रकार से हैक करना या गलत सूचनाएं देना साइबर क्राइम की श्रेणी में आता है। वहीं धर्मनारायण तिवारी ने कहा कि भारत, चीन के बाद दुनिया का सबसे बड़ा दूसरा नेट प्रयोगकर्ता देश है। इन्टरनेट से जाने-अंजाने गलत सूचनाओं के आदान-प्रदान की प्रक्रिया साइबर क्राइम की श्रेणी में आता है। वक्ता अनुज जायसवाल ने ई-मेल भेजने एवं इससे संबंधित साइबर क्राइम की जानकारी दी। उन्होंने नागरिकों को सावधानीपूर्वक इंटरनेट प्रयोग के प्रति आगाह किया। साइबर सेल के अंशुल शर्मा ने सोशल मीडिया, फेसबुक, व्हाट्सअप, इंस्टाग्राम, ट्यूटर आदि पर प्रकाश डाला। इस दौरान डॉ.राजकुमार उपाध्याय, डॉ.अनिल कुमार सिन्हा, डीपीएस तिवारी, आरके चौहान, शोभना सिंह, रॉबिन थॉमस, डॉ.आशीष कुमार, एचएसपी तोण्डे, डॉ.धीरज कुमार यादव, डॉ.सुषमा केरकेट्टा, डॉ.अमृता कुमारी पंडा, जुनैद खान, मुकेश कुमार नाग, खेमकरण अहिरवार,ज्योत्सू दत्ता आदि उपस्थित थे।