अंबिकापुर। ससुर के स्थान पर अनुकंपा नियुक्ति के लिए सहमति नहीं देने से नाराज पति ने मां व पिता के साथ मिलकर पांच लाख रुपये दहेज में लाने की मांग कर विवाहिता को घर से निकाल दिया। दांपत्य जीवन में दो संतान होने के बावजूद दूसरी महिला से विवाह रचा लेने के मामले में पुलिस ने पति, सास व ससुर के खिलाफ अपराध पंजीबद्घ किया है।

जानकारी के मुताबिक बसदेई पुलिस चौकी क्षेत्र के ग्राम उंचडीह निवासी कलेश्वरी उर्फ सुशीला राजवाड़े 32 वर्ष का विवाह भटगांव क्षेत्र के ग्राम अधिना निवासी दुलेश्वर राजवाड़े से वर्ष 2008 में सामाजिक रीति-रिवाज से हुआ था। दोनों की दो संतान भी हैं। विवाहिता कलेश्वरी ने थाने में शिकायत दर्ज कराई है कि उसके पिता एसईसीएल भटगांव क्षेत्र के कल्याणी खदान में नौकरी करते थे।

बीमारी के कारण वर्ष 2016 में उनका निधन हो गया। उसके कुछ माह बाद से ही पति दुलेश्वर राजवाड़े, सास सरस्वती राजवाड़े व ससुर रामकुमार राजवाड़े द्वारा पिता की जगह दुलेश्वर की नौकरी एसईसीएल में लगवा देने का दबाव बनाना शुरू किया गया। ऐसा नहीं करने पर दहेज में पांच लाख रुपये नगद व गाड़ी लेकर आने की बात कह उसे प्रताड़ित किया जाने लगा।

छेरता त्योहार के दौरान विवाहिता को घर से निकाल देने पर वह अपने मायके उंचडीह बसदेई में निवास कर रही है। लगभग डेढ़ माह पूर्व आरोपी पति दुलेश्वर द्वारा एक दूसरी महिला से विवाह रचा लिया गया। पीड़िता कलेश्वरी के मुताबिक उनका बड़ा बेटा पति के पास है। उसकी तबीयत ठीक नहीं होने के कारण शनिवार को वह मां व ममेरी बहन के साथ ससुराल ग्राम अधिना पहुंची थी।

उसे देखते ही पति व सास द्वारा बिना दहेज के आने पर गाली-गलौज कर मारपीट करने लगे। रिश्तेदारों द्वारा बीच-बचाव कर मामला शांत कराया गया। विवाहिता की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी पति दुलेश्वर राजवाड़े, सास सरस्वती राजवाड़े व ससुर रामकुमार राजवाड़े के खिलाफ धारा 498ए, 494 व 34 आइपीसी के तहत अपराध पंजीबद्घ कर लिया है।