0 जनपद की स्थगित सामान्य सभा के बाद बाइस सदस्य हुए शामिल

0 अध्यक्ष-उपाध्यक्ष के भाजपा में शामिल होने के बाद पहली बार सामान्य सभा

अंबिकापुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

जनपद पंचायत अंबिकापुर के अध्यक्ष-उपाध्यक्ष सहित चार सदस्यों के भाजपा में शामिल होने के बाद पहली बार सोमवार को सामान्य सभा आयोजित हुई। अध्यक्ष-उपाध्यक्ष से सदस्यों ने सभा के दौरान दूरी बनाए रखी। सामान्य सभा में आपसी खटास स्पष्ट नजर आ रही थी। तीन घंटे सभा चली पर सदस्य व अध्यक्ष-उपाध्यक्ष के बीच पहले जैसी चर्चाएं नहीं हुई। जनपद सीईओ के विशेष आग्रह पर सामान्य सभा में अध्यक्ष-उपाध्यक्ष सहित 22 सदस्य उपस्थित हुए।

गौरतलब है कि अंबिकापुर जनपद पंचायत में कुल 25 निर्वाचित जनपद सदस्य हैं। ढाई वर्ष पूर्व भाजपा को जनपद में एक अदद प्रस्तावक नहीं मिला था। कांग्रेस संगठन ने पूनम सिंह टेकाम को अध्यक्ष व संजय राजवाड़े को उपाध्यक्ष बनाया था। इनसे ढाई-ढाई साल के लिए समझौता भी हुआ था। ढाई साल के बाद रेवती सिंह को अध्यक्ष व कुमार अजीत को उपाध्यक्ष बनाए जाने की सहमति बनी थी किन्तु जैसे ही ढाई साल पूरा हुआ तो अध्यक्ष-उपाध्यक्ष से संगठन ने तय निर्णय के अनुसार इस्तीफा मांगा तो अध्यक्ष-उपाध्यक्ष ने कांग्रेस छोड़ भाजपा का दामन ही थाम लिया। अपने साथ चार सदस्यों को भी ले गए। दो माह पूर्व इस राजनीतिक घटनाक्रम से कांग्रेस संगठन में खलबली मच गई थी। दो दिन बाद कुछ सदस्य वापस कांग्रेस में आ गए थे। इस घटनाक्रम के बाद पहली बार एक सप्ताह पूर्व सामान्य सभा का आयोजन किया गया था जिसमें अध्यक्ष-उपाध्यक्ष सहित कुछ छह सदस्य ही सभा में पहुंचे। कोरम पूर्ति के अभाव में बैठक स्थगित कर दी गई थी। स्थगित बैठक की नई तिथि निर्धारित की गई थी जिसमें जनपद सीईओ श्री अग्रवाल ने सभी सदस्यों से व्यक्तिगत तौर पर दूरभाष में चर्चा कर बैठक में उपस्थित होने आग्रह किया था। सोमवार को अध्यक्ष-उपाध्यक्ष सहित बाइस सदस्य उपस्थित हुए किन्तु सामान्य सभा का नजारा ही बदला-बदला सा था। सदस्यगण पहले की तरह अध्यक्ष-उपाध्यक्ष से चर्चा नहीं कर रहे थे और दूरी बनाकर रखे थे। लगभग तीन घंटे बैठक चली पर किसी गंभीर मुद्दे पर खास चर्चा नहीं हुई। जनपद पंचायत अंबिकापुर के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एसबी अग्रवाल ने बताया है कि बैठक में विभिन्न विभागों द्वारा संचालित योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की गई। इस अवसर पर जनपद सदस्य एवं विकासखंड स्तर के अधिकारी उपस्थित थे।