अंबिकापुर/कुसमी(निप्र)। पति से झगड़े के बाद नाराज पत्नी ने पहले तो खुद और दो पुत्रों को शराब सेवन कराया फिर फोरेट नामक कीटनाशक पी लिया। हालत बिगड़ने पर तीनों को कुसमी के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में दाखिल कराया गया है। तीनों की स्थिति को देखते हुए चिकित्सकों ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया है परंतु परिजन कुसमी अस्पताल में ही इलाज करा रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक कुसमी थाना के ग्राम करकली निवासी राजू उरांव 37 वर्ष पेशे से आटो चालक है। शनिवार को ईस्टर पर गांव के कुछ लोगों को लेकर वह रतासिली चर्च आटो से चला गया था। भोर में लगभग चार बजे वह सवारी लेकर वापस लौटा। घर पहुंचते ही उसका, पत्नी प्यारी उरांव 34 वर्ष से विवाद शुरू हो गया था। पत्नी का कहना था कि उसका पति रात में कही भी रूक जाता है।

भोर में तकरार के बाद पति राजू उरांव सुबह फिर से काम पर निकल गया, इधर उसकी पत्नी प्यारी उरांव कुसमी आई और खाद-बीज दुकान से फोरेट नामक कीटनाशक खरीद कर घर वापस लौटी। घर पहंुचने के बाद वह शराब लेकर आई तथा खुद सेवन किया और बड़े पुत्र संजीत 12 वर्ष, दिपेश 10 वर्ष को भी शराब पिलाया। नशे में आ जाने के बाद उसने फोरेट कीटनाशक को भी बच्चों को पिलाने के साथ खुद भी सेवन किया। इस दौरान उसने घर के सामने के दरवाजे में ताला लगा दिया था ताकि किसी को कुछ आभास न हो सके।

शराब के बाद कीटनाशक सेवन से तीनों की हालत बिगड़ने लगी, उस दौरान घर में उनकी मासूम बेटी मोनिका 10 वर्ष भी थी, उसे न तो शराब दिया गया था और न ही फोरेट कीटनाशक सेवन दिया गया था। मां व दोनों भाईयों की हालत देखकर वह घर के पीछे दरवाजे के बाहर निकली तथा पास-पड़ोसियों को घटना से अवगत कराया। दोपहर बाद तीनों को 108 संजीवनी एक्सप्रेस से कुसमी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया, जहां देर शाम तक संजीत अचेतावस्था में ही पड़ा हुआ था। चिकित्सकों ने बताया कि उपचार के बाद तीनों की हालत में तो सुधार है लेकिन जहर खुरानी के मामले में कुछ कहा नहीं जा सकता। तीनों को बेहतर ईलाज के लिए चिकित्सकों ने जिला अस्पताल अंबिकापुर के लिए रेफर कर दिया है लेकिन परिजन उन्हें कुसमी अस्पताल में ही रखे हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

------------------------------------------