नईदुनिया फालोअप

अंबिकापुर । नईदुनिया प्रतिनिधि

नगर के रिंग रोड का निर्माण तो लगभग पूरा होने की स्थिति में है, किन्तु सड़क के दोनों ओर की बस्तियों में इस बार की बारिश आफत बनकर आने वाली है। इसका अंदेशा भी प्री-मानसून की हो रही बौछार से ही हो गया है। रिंग रोड की ऊंचाई से दोनों हिस्से की बस्तियों में पानी भरने लगा है। नगर के चांदनी चौक की हालत काफी चिंताजनक हो गई है। रिंग रोड के मायापुर पंचदेव मंदिर मार्ग के हिस्से में रिंग रोड की ऊंचाई काफी अधिक होने से बारिश की बौछार से ही तालाब की तरह पानी भर गया और लोगों को मुसीबत होने लगी। अभी तो यह शुरुआती बारिश की बौछार है। चार महीने तक मूसलाधार बारिश में क्या स्थिति निर्मित होगी अनुमान लगाया जा सकता है। लोगों का आवागमन निश्चित रुप से बाधित होगा। इस हिस्से पर मिट्टी, मुरम या क्रशर डस्ट भरने से भी स्थिति नहीं सुधरेगी।

गौरतलब है कि 'नईदुनिया' ने लगातार रिंग रोड की ऊंचाई और एप्रोच को लेकर खबर प्रकाशित किया और आगाह किया है कि बारिश में एप्रोच नहीं बना तो भारी मुसीबत का सामना नागरिकों को करना पड़ेगा। नईदुनिया का यह अंदेशा सही साबित होने लगा है। दो-तीन दिनों से हर रोज शाम को होने वाली प्री-मानसून की बौछार से स्थिति गंभीर नजर आ रही है। नगर के चांदनी चौक के दोनों हिस्से पर एप्रोच का निर्माण मंत्री टीएस सिंहदेव के निर्देश के बावजूद सीजीआरडी एवं निगम नहीं कराया। लिहाजा प्री-मानसून की बौछार से ही स्थिति चिंताजनक होने लगी। रिंग रोड का निर्माण कार्य तो लगभग पूरा होने की स्थिति में है। कुछ चौक-चौराहों पर कांक्रीटीकरण जारी है। बारिश में भी कांक्रीटीकरण का काम किया जा सकता है किन्तु रिंग रोड के निर्माण के बाद दोनों हिस्सों की बस्तियों में बड़ी आफत आ गई है। सूखे के दिनों में लोगों का आवागमन किसी तरह हो रहा था पर अब बारिश में रिंग रोड की ऊंचाई लोगों के लिए भारी मुसीबत बनने वाली है। कई लोगों के मकान तो रिंग रोड के बराबर में आ चुके हैं। ऐसे में इनका घरों से निकलना मुश्किल हो गया है। कई मोहल्लों में निस्तार की बड़ी समस्या उत्पन्न हो गई है। 11 किलोमीटर रिंग रोड में जहां-जहां चौक-चौराहे हैं वहां सर्वाधिक परेशानी नजर आ रही है। चांदनी चौक की स्थिति को देखकर इसका अनुमान लगाया जा सकता है। बुधवार की शाम हुई तेज बारिश के बाद चांदनी चौक में पंचदेव मंदिर मार्ग में इतना पानी भर गया कि तालाब की तरह जमा हो गया। चौक पर स्थित दुकानों एवं मकानों में पानी प्रवेश करने लगा। कुछ देर की बारिश में ही ऐसी स्थिति निर्मित हो गई कि लोग परेशान हो गए। अब बारिश भर यही स्थिति बने रहने की संभावना है क्योंकि इस बारिश में रिंग रोड की ऊंचाई के बराबर एप्रोच बनाने में मिट्टी, मुरम व क्रशर डस्ट का उपयोग करने से काम नहीं चलेगा।