0 अजिरमा, भगवानपुरखुर्द, बिशुनपुर व ठाकुरपुर को सरगुजा में शामिल करने पहल

0 जिला विभाजन के बाद सूरजपुर जिले में चला गया था इलाका

0 रेलवे स्टेशन, अजिरमा कृषि विज्ञान केन्द्र व सेंट्रल स्कूल अब आएगा सरगुजा में

अंबिकापुर । नईदुनिया प्रतिनिधि

जिला विभाजन के बाद सरगुजा व सूरजपुर जिले की सीमाओं को लेकर उत्पन्न विसंगति दूर करने का रास्ता लगभग साफ हो गया है। ग्राम पंचायत अजिरमा व आश्रित ग्राम भगवानपुरखुर्द, बिशुनपुर व ठाकुरपुर को सरगुजा में शामिल करने की बहुप्रतिक्षित मांग अब पूरी होने वाली है। कैबिनेट में लिए गए निर्णय के बाद राज्य के दो जिले सूरजपुर व सरगुजा की सीमा में बदलाव किया जा रहा है। राज्य सरकार ने राजपत्र में अधिसूचना का प्रकाशन कर दावा आपत्ति आमंत्रित किया है। अधिसूचना में कहा गया है कि सूचना प्रकाशन के 60 दिनों के अंदर उक्त संबंध में कोई आपत्ति, सुझाव हो तो राज्य शासन के सचिव राजस्व एवं आपदा प्रबंधन को दिए जा सकते हैं।

सरगुजा जिले को विभाजित कर बलरामपुर व सूरजपुर जिले का गठन किया गया है। जिला विभाजन की विसंगतियों के कारण अंबिकापुर का कृषि महाविद्यालय, रेलवे स्टेशन, सेंट्रल स्कूल सब सूरजपुर जिले में चला गया है। उक्त सारी संस्थांए शहर से लगे अजिरमा ग्राम पंचायत में समाहित हैं और अजिरमा ग्राम पंचायत सूरजपुर जिले में चला गया है। जिला विभाजन के बाद अंबिकापुर शहर से लगे अजिरमा व भगवानपुरखुर्द राजस्व ग्राम भी सूरजपुर जिले में शामिल हो गए थे। इस विसंगति के कारण आ रही परेशानियों को देखते हुए जिला विभाजन के बाद से ही आमजनों व जनप्रतिनिधियों के द्वारा इस क्षेत्र को अंबिकापुर में शामिल किए जाने की मांग चली आ रही थी। 10 नवंबर 2017 को अंबिकापुर पहुंचे प्रदेश के पीडब्ल्यूडी मंत्री राजेश मूणत ने जानकारी दी थी कि अजिरमा और भगवानपुरखुर्द को सरगुजा जिले के अंबिकापुर विकासखंड में शामिल करने का फैसला कैबिनेट में ले लिया गया है। पीडब्ल्यूडी मंत्री द्वारा दी गई इस जानकारी के बाद भी आगे मामला नहीं बढ़ पा रहा था। अजिरमा व भगवानपुरखुर्द ग्राम सूरजपुर जिले में ही थे। इस बीच यह सुखद खबर सामने आ गई है कि राज्य सरकार द्वारा सूरजपुर व सरगुजा जिले की सीमा में बदलाव किया जा रहा है। सीमा में बदलाव की यह पहल जिला विभाजन की कारण उत्पन्न विसंगतियों को दूर करने के लिए ही किया जा रहा है। राज्य सरकार ने राजपत्र में अधिसूचना भी जारी कर दी है। अधिसूचना के मुताबिक सूरजपुर जिले की तहसील सूरजपुर की सीमाओं से ग्राम पंचायत अजिरमा तथा आश्रित ग्राम भगवानपुरखुर्द, बिशुनपुर व ठाकुरपुर को अपवर्जित करते हुए उसे जिला सरगुजा की तहसील अंबिकापुर के राजस्व मंडल अंबिकापुर की सीमा में शामिल करते हुए जिला सूरजपुर की तहसील सूरजपुर के साथ जिला सरगुजा की सीमा में बदलाव किया जाएगा। इसी प्रकार सरगुजा जिले के तहसील लखनपुर की सीमाओं से ग्राम पंचायत गेतरा को अपवर्जित करते हुए जिला सरगुजा की सीमा में बदलाव किया जाना प्रस्तावित है। ग्राम पंचायत गेतरा को सूरजपुर जिले में शामिल किए जाने का प्रस्ताव है। 60 दिनों में दावा आपत्ति मांगी गई है। उसके बाद जिला विभाजन की विसंगति दूर हो जाएगी। कई वर्षों से चली आ रही विसंगति दूर होने के बाद अब अंबिकापुर रेलवे स्टेशन, केन्द्रीय विद्यालय व कृषि विज्ञान व अनुसंधान केन्द्र अजिरमा सरगुजा जिले में शामिल हो गया है।

सीएम भी देते रहे हैं आश्वासन

जिला विभाजन की विसंगति के कारण अजिरमा स्थित रेलवे स्टेशन, कृषि महाविद्यालय व केंद्रीय विद्यालय के सूरजपुर जिले में शामिल होने से उत्पन्न समस्याओं को लेकर समय-समय पर शहर प्रवास के दौरान मुख्यमंत्री के समक्ष भी जनप्रतिनिधि व आम जनमानस अपनी भावनाएं रख चुके थे। मुख्यमंत्री की ओर से हर बार यही आश्वासन दिया जाता रहा है कि यह विसंगति दूर होगी। सीएम के आश्वासन के अनुरूप अब राजपत्र में अधिसूचना जारी हो जाने से रेलवे स्टेशन, सेंट्रल स्कूल व कृषि महाविद्यालय के सरगुजा जिले में शामिल होने का मार्ग प्रशस्त हो गया है।

ब्लाक पुनर्गठन आयोग के समक्ष भी रखा गया था पक्ष

ब्लॉक पुनर्गठन आयोग के अध्यक्ष डॉ. एसके मिश्रा के समक्ष भी जनप्रतिनिधियों व आम लोगों ने अपनी भावनाओं से अवगत कराया था और अंबिकापुर रेलवे स्टेशन, सेंट्रल स्कूल व अजिरमा कृषि विज्ञान केन्द्र को अंबिकापुर में शामिल किए जाने की मांग की थी। अंबिकापुर विधायक टीएस सिंहदेव व भटगांव के पूर्व विधायक स्व. रविशंकर त्रिपाठी भी इस विसंगति से समय-समय पर मुख्यमंत्री को अवगत कराते रहे। श्री सिंहदेव ने तो इस विसंगति को विधानसभा में भी रखा था और सरगुजा में अजिरमा व भगवानपुरखुर्द राजस्व ग्राम को शामिल किए जाने की मांग की थी। सभी दलों के नेताओं ने पुरजोर तरीके से इस मांग को रखा था जिसका असर यह था कि दो वर्ष पूर्व अजिरमा पहुंचे मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को यह कहना पड़ा था कि अगली बार वे जब भी आएंगे यह सीमा विवाद खत्म कर देंगे।

गेतरा सूरजपुर में शामिल

सरगुजा जिले के लखनपुर विकासखंड का गेतरा अब सूरजपुर में शामिल हो जाएगा। प्रदेश सरकार के गजट में लखनपुर विकासखंड के गेतरा पंचायत को सूरजपुर में शामिल किए जाने का प्रकाशन करते हुए इसपर भी 60 दिनों में दावा आपत्ति मंगाई है। गेतरा को सूरजपुर में शामिल किए जाने की मांग भी जिला पुनर्गठन के दौरान से की जा रही थी।