अंबिकापुर । नईदुनिया प्रतिनिधि

हाई व हायर सेकेंडरी स्कूलों में व्याख्याताओं के रिक्त पदों पर भर्ती के लिए रविवार को छत्तीसगढ़ व्यवसायिक परीक्षा मंडल द्वारा कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच नियमित व्याख्याताओं की भर्ती के लिए लिखित परीक्षा का आयोजन किया गया। विषयवार परीक्षा केंद्र निर्धारित किए गए थे। पहली पाली में वाणिज्य, रसायन, गणित, भौतिकी और जीव विज्ञान विषय के पदों के लिए लिखित परीक्षा आयोजित की गई। द्वितीय पाली में अंग्रेजी विषय की परीक्षा आयोजित की गई।

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के सत्तासीन होने के बाद प्रदेशभर में व्याख्याताओं के रिक्त लगभग 1400 पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए थे। पूर्व में शिक्षाकर्मी भर्ती के दौरान हजारों पद भरे गए लेकिन वाणिज्य, रसायन, गणित, भौतिकी और अंग्रेजी विषय में सेटअप अनुरूप भर्ती प्रक्रिया नहीं हो सकी। उम्मीदवारों की कम संख्या भी दिक्कत थी। भाजपा शासन में आउटसोसिर्ग का भी सहारा लिया गया था। सत्ता परिवर्तन के बाद हाई व हायर सेकेंडरी स्कूल में व्याख्याताओं के पदों पर नियमित भर्ती करने का निर्णय लिया गया था। सरकार के इस निर्णय को लेकर शिक्षाकर्मियों की ओर से आपत्ति भी दर्ज कराई गई थी और जन घोषणा पत्र के वादों के अनुरूप संविलियन की कार्रवाई पूर्ण करने का आग्रह किया गया था। इन सबके बीच सरकार ने स्पष्ट किया था कि व्याख्याताओं के नियमित पदों पर सीधी भर्ती होगी। इसी के तहत व्यवसायिक परीक्षा मंडल द्वारा सभी जिलों में परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। रविवार को अंबिकापुर के राजीव गांधी शासकीय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय में वाणिज्य, माता राजमोहनी देवी कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय व पालीटेक्निक कॉलेज में रसायन, मल्टीपरपज हायर सेकेंडरी स्कूल व गर्ल्स हायर सेकेंडरी स्कूल में गणित, नगर निगम उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में भौतिकी, पुलिस लाइन व मणिपुर कन्या हायर सेकेंडरी स्कूल में जीव विज्ञान विषय के अभ्यर्थियों के लिए परीक्षा आयोजित की गई। पहली पाली में कुल पंजीकृत 2879 परीक्षार्थियों में से 2531 उपस्थित रहे, जबकि 349 परीक्षार्थियों ने परीक्षा में हिस्सा नहीं लिया। सबसे कम 171 परीक्षार्थी भौतिकी विषय के रहे। इस विषय के नियमित व्याख्याता के लिए आवेदन भी कम जमा हुए थे। द्वितीय पाली में अंग्रेजी विषय के लिए नियमित व्याख्याताओं की भर्ती हेतु राजीव गांधी शासकीय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय, माता राजमोहिनी देवी कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय तथा पालीटेक्निक कॉलेज में परीक्षा का आयोजन किया गया। अंग्रेजी विषय के लिए कुल पंजीकृत 1566 परीक्षार्थियों में से 1282 परीक्षा में उपस्थित हुए। 284 अनुपस्थित रहे। अंग्रेजी विषय में ही सर्वाधिक आवेदन आए थे। इसके बाद ज्यादा परीक्षार्थियों की संख्या जीव विज्ञान व रसायन की रही।

आरक्षण रोस्टर में फंसने से खाली थे पद

10वीं, 12वीं की बोर्ड परीक्षा के परिणाम में सुधार की चल रही कोशिशों में नियमित व्याख्याताओं की कमी बड़ी बाधा बनकर सामने आती रही है। सरगुजा, सूरजपुर बलरामपुर जिले में वाणिज्य विज्ञान और अंग्रेजी विषय के नियमित अध्यापकों की कमी है। शिक्षाकर्मियों के जरिए भी सेटअप के अनुरूप पदस्थापना नहीं होने से अध्ययन अध्यापन में असुविधा का सामना करना पड़ता है। जिला पंचायत के जरिए होने वाली भर्ती में भी वाणिज्य और विज्ञान संकाय के पद आरक्षण रोस्टर में फंसने से खाली पड़े हुए हैं। व्याख्याताओं की नियमित भर्ती हो जाने के बाद स्कूलों में पढ़ाई की किसी प्रकार की कोई दिक्कत शिक्षकों की कमी की से नहीं होगी। रविवार को व्यापमं की परीक्षा में परीक्षार्थियों को कड़ी जांच प्रक्रिया से होकर गुजरना पड़ा। ओरिजनल फोटो युक्त पहचान पत्र देखकर परीक्षार्थियों को केंद्रों में प्रवेश करने की इजाजत दी गई। परीक्षार्थियों के अलावा एक-एक कक्ष की वीडियोग्राफी भी कराई गई।

शांतिपूर्वक हुई परीक्षा

पीजी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. एसके त्रिपाठी ने बताया कि व्याख्याताओं के नियमित पदों पर भर्ती के लिए परीक्षा शांतिपूर्वक ढंग से हुई। पहली पाली की परीक्षा में परीक्षार्थियों की ओर से व्यवस्था अथवा प्रश्न पत्रों को लेकर किसी प्रकार की कोई शिकायत सामने नहीं आई है। परीक्षा के एक दिन पहले ही सभी केंद्र अध्यक्षों को व्यापम के दिशा निर्देशों से अवगत करा दिया गया था। उन्होंने बताया कि शिक्षा विभाग और आदिम जाति कल्याण विभाग के लिए अलग-अलग आवेदन जमा किए गए थे, लेकिन अब दोनों विभागों का मर्ज हो जाने से शिक्षा विभाग के लिए ही व्याख्याताओं की नियमित भर्ती की परीक्षा मानी जा रही है।