फोटो 25 बालोद 17- बच्चों को पुस्तक वितरित करते शिक्षकगण।

बालोद। नईदुनिया न्यूज

शासकीय प्राथमिक शाला छोटापारा कपरमेटा में शाला प्रवेशोत्सव मनाया गया। प्रधान पाठक आरआर गंजीर ने बताया कि इस वर्ष कक्षा पहली में चार बच्चों ने नवप्रवेश लिया। जिन्हें मुंह मीठाकर, तिलक लगाकर प्रवेश कराया गया। सहायक शिक्षक षडप्रकाश किरण कटेन्द्र ने सभा को संबोधित करते हुए शाला की उपलब्धि को बताया कि स्मार्ट क्लॉस में बच्चे एलईडी टीवी एवं प्रोजेक्टर के माध्यम से इंटरनेट का प्रयोग कर पढ़ाई कर सकेंगे। कम्प्यूटर क्लॉस में बच्चों को कम्प्यूटर की बेसिक ज्ञान सीख सकेंगे साथ ही खेल, गीत, संगीत, अभिनय, नृत्यकला, चित्रकला एवं मूर्तीकला भी सीखाई जाएगी। बच्चों के लिए खेल खेल में सीखने के लिए इन्डोर गेम्स एवं विषय आधारित सहायक शिक्षण सामग्री पर्याप्त मात्रा में रखी गई है। शाला में आकर्षक गार्डनिंग व कीचन गार्डन है? इस अवसर पर सहायक शिक्षक केवल राम मंडावी, शाला प्रबंध समिति अध्यक्ष परदेशी राम विश्वकर्मा, उपाध्यक्ष अन्नपूर्णा सोरी, जामुन ठाकुर, संतोषी मंडावी, गंगदेव राम सोरी, सुखेन राम सोरी, भुवन सोरी, रोहणी नेताम, रामकुमारी सोरी, मधु सोरी, गौतम सोरी, दीपेश सोरी उपस्थित रहे।

------------

छात्र दोमेन्द्र का प्रयास विद्यालय में चयन

फोटो 25 बालोद 18

बालोद। नईदुनिया न्यूज

शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला दरबारी नवागांव का छात्र दोमेन्द्र कुमार पिता योगेश कुमार बढ़ई का कक्षा आठवीं सत्र 2019-20 के प्रयास विद्यालय जगदलपुर के लिए चयन हुआ है। इसके पूर्व सत्र 2017-18 में कुमारी लोकेश्वरी पिता कुमार सिंह नेताम व कुमारी यशोमती पिता रमेश कुमार अंधारे का चयन हुआ था। लगातार दूसरे वर्ष भी चयन होने पर प्रधान पाठक बीआर साहू संकुल समन्वयक अशोक कुमार साहू ,शिक्षक बीएल चुरेन्द्र, एसके साहू, वसुधा पांडेय, बालमुकुन्द भूआर्य, फागू राम बढ़ई, ढाल सिंह भंसारे, भगवान सिंह, सरपंच ओमिन निर्मलकर, सुंदर लाल बढ़ई, दीनबन्धु ने उनके उज्जावल भविष्य की कामना की है।

-------

ग्रामीण अंचलों में धान बुआई जारी

फोटो 15 गुरुर-1 खेतों की जुताई करते किसान।

गुरुर। नईदुनिया न्यूज

नगर सहित ब्लॉक के ग्रामीण अंचल में तेज बारिश होने से किसान खेतों की साफ-सफाई के बाद अब खेतों में फसल की बोआई में लग गए है। गुरुर ब्लॉक के अधिकांश क्षेत्रों में धान बोआई का काम जोरों व पारंपरिक तरीकों से चल रही है। किसान अपने खेतों की धान की बोआई के लिए नई तकनीक व पारंपरिक विधि दोनों तरीकों से जोताई कर रहे है। ग्राम ठेकवाडीह के कृषक दीनदयाल साहू ने बताया की अब ग्रामीण अंचल में भी किसान नई तकनीक को अपना रहे है। जिससे उनको खेती करने में सुविधा हो रही है। साथ ही लागत भी कम लग रहा है, इसके साथ-साथ किसान खेतों के लिए खाद्य उर्वरक की व्यवस्था करने में लग गये है।

--------