बलौदाबाजार। नईदुनिया न्यूज

जिले के सिमगा विकासखंड की कुछ समितियों में बीजों की गुणवत्ता संबंधी शिकायत पर तत्काल कार्रवाई करते हुए कृषि विभाग ने बीज का नमूना लेकर जांच के लिए राजधानी रायपुर स्थित बीज परीक्षण लैब भेज दिया है। रिपोर्ट आते तक बीज के इन लॉटों की बिक्री पर रोक लगा दी गई है।

उप संचालक कृषि ने बताया कि सिमगा विकासखंड के गांव बिटकुली, भटभेरा, शिकारी केसली एवं सुहेला सोसायटी में विक्रय के लिए उपलब्ध कराए गए बीजों की गुणवत्ता को लेकर किसानों से शिकायत मिली थी। इस पर बीज निरीक्षक के नेतृत्व में टीम बनाकर तत्काल मौके पर जांच के लिए भेजा गया। नजरी आकलन के आधार पर भटभेरा एवं सुहेला में बीज सही पाया गया, लेकिन शिकारी केसली में बीज में दो-तीन प्रतिशत करगा पाया गया। बीज निरीक्षक ने आगे की जांच कराने के लिए नमूना लिया और परीक्षण के लिए रायपुर के लाभांडी स्थित बीज परीक्षण प्रयोगशाला भेज दिया गया है। साथ ही समिति में किसानों की मांग के अनुरूप 50 क्विंटल स्वर्णा एवं 50 क्विंटल महामाया का भण्डारण के लिए मांग की गई है। गौरतलब है कि राज्य सरकार द्वारा कृषि विभाग को बीजों की गुणवत्ता नियंत्रण का काम सौंपा गया है। इसके अंतर्गत जिले में भण्डारित बीजों का नमूना लिया जाता है तथा इसके परिणाम के अनुरूप कार्रवाई की जाती है। बीजों के भण्डारण का काम राज्य बीज निगम द्वारा किया जाता है, जिसे समितियों के जरिए किसानों को वितरित किया जाता है।