भिलाई, नईदुनिया प्रतिनिधि। महारत्न कंपनी सेल की ध्वजवाहक इकाई भिलाई इस्पात संयंत्र के पहले ब्लास्ट फर्नेस ने अपना 60 वां बर्थ-डे सोमवार को मनाया। 60 साल के सफर को यादगार बनाते हुए कार्मिकों ने जमकर खुशियां मनाई। केक काटा गया और एक-दूसरों को बधाई दी।

पहले ब्लास्ट फर्नेस-1 से चार फरवरी 1959 को कच्चे लोहे की पहली खेप प्राप्त की गई थी। उत्पादन की यह निरंतरता आज तक श्रेष्ठता से कायम है। ब्लास्ट फर्नेस-1 दुनिया में तत्कालीन सोवियत यूनियन के सहयोग से बना सबसे पुराना ब्लास्ट फर्नेस है। फर्नेस-1 ने आरंभ से अब तक 24.3 मिलियन टन हॉट मेटल का उत्पादन किया है।

60 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में एक समारोह का आयोजन किया गया। समारोह में भिलाई इस्पात संयंत्र के सीईओ एके रथ, ईडी पीके दाश, एसके खैरूल बसर, मानस बिस्वास आदि उपस्थित थे। इस समारोह में सीईओ एके रथ ने कहा कि ब्लास्ट फर्नेस-1 बीएसपी का प्रथम एवं दुनिया का सबसे पुरानी तकनीक का ब्लास्ट फर्नेस है। यह ब्लास्ट फर्नेस 60 वर्ष तक लगातार अपनी क्षमता से अधिक उत्पादन कर रहा है, जोकि यहां के कार्मिकों के उत्कृष्ट कार्यसंस्कृति का ही प्रतिफल है।

इस अवसर पर कार्यपालक निदेशक (वर्क्स) पीके दाश ने ब्लास्ट फर्नेस-1 के अब तक के सफलतापूर्वक प्रचालन और माइलस्टोन को प्राप्त करने पर ब्लास्ट फर्नेस-1 बिरादरी को सराहा। महाप्रबंधक (ब्लास्ट फर्नेस-8) तापस दासगुप्ता ने स्वागत करते हुए ब्लास्ट फर्नेस-1 पर आधारित विस्तृत जानकारी दी। इस दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया। संचालन सुप्रियो सेन ने व समन्वयन उप महाप्रबंधक यूएस राव व एसपी सिंह ने किया। अंत में उप महाप्रबंधक टोकदार ने आभार व्यक्त किया।