भिलाई। नईदुनिया प्रतिनिधि

भिलाई टाउनशिप में दो टाइम पानी और आवासों की बेहतर व्यवस्था की मांग जीएम से की गई है। बीएसपी कर्मचारी ने जीएम टाउनशिप को मांगों की सूची सौंपी। एक-एक बिन्दुओं पर चर्चा की। कर्मचारियों की शिकायतों को दूर करने के लिए त्वरित कार्यवाही की आवाज उठाई गई।

बीएसपी वर्कर्स यूनियन (बीडब्ल्यूयू) के अध्यक्ष उज्ज्वल दत्ता के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने महाप्रबंधक नगर सेवा विभाग के साथ चर्चा की। सेक्टर एरिया में कई जगह बिल्डिंग को गिराकर नए मकान बनाने की योजना बनाई गई थी। इस पर अब तक अमल नहीं हो सका। कुछ बिल्डिंगों को गिराना अभी बाकी है। परंतु नई बिल्डिंग बनाने की दिशा में कोई कार्यवाही नहीं की गई है। इस कारण संयंत्र कर्मियों को नया मकान नहीं मिल पा रहा है। इस पर तत्काल कार्यवाही करने की मांग की गई। प्रतिनिधि मंडल से चर्चा पर महाप्रबंधक प्रदीप घोष ने यूनियन की मांगों पर कार्यवाही का आश्वाशन दिया।

इस मौके पर अध्यक्ष के अलावा उपमहासचिव शिव बहादुर सिंह, दिलकेश्वर राव, वरिष्ठ उपाध्यक्ष नोहर सिंह गजेंद्र, वरिष्ठ सचिव प्रदीप सिंह, राजेश फिरंगी, नितिन कश्यप, कार्यकारिणी सदस्य ए. विजय लक्ष्मी, बीर सिंह साहू उपस्थित थे।

बारिश से पूर्व बैक लाइन की साफ-सफाई की जाए

वेलकम स्कीम से सैकड़ों मकानों की मरम्मत कार्य नहीं हो पा रहा है, जिस कारण कर्मियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

जल्द से जल्द मकानों का मेंटेनेंस वेलकम स्कीम से किया जाए।

सेक्टर-7 एवं सेक्टर-6 की बिल्डिंगों में रंग-रोगन का कार्य बारिश से पूर्व प्रारम्भ किया जाए।

प्रबंधन ने तत्काल कार्यवाही कर बिल्डिंगों में पुताई करने का आदेश दिया।

कर्मियों को बड़ा मकान नहीं मिल रहा है, जबकि अधिकारी वर्ग के कई मकान खाली पड़े हैं।

बड़े मकान खराब हो रहे है, अतः अधिकारी वर्ग के खाली पड़े मकानों को भी कर्मचारी वर्ग को ऑनलाइन आवंटित किया जाए।

सब्जेक्ट-टू-वेकेशन प्रक्रिया प्रारम्भ किया जाए।

बारिश पूर्व टारफेल्टिंग शुरू किया जाए, जिससे मकानों का संधारण किया जा सके।

बरसात में छतों से पानी रिसने के कारण बीएसपी की करोड़ों की सम्पत्ति नष्ट हो रही है।

भीषण गर्मी को देखते हुए टाउनशिप में दो टाइम पानी की सप्लाई की जाए।

नए कर्मियों को दिए गए छोटे मकानों की हालत ज्यादा खराब हैं, जिसमें रह पाना कठिन है। इनकी मरम्मत की बहुत ज्यादा जरूरत है।

सिविक सेंटर में आम जनमानस के लिए टॉयलेट की व्यवस्था की जाए।