रायपुर (राज्य ब्यूरो)। छत्तीसगढ़ के आदिवासियों और जंगल को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भिलाई में जो कुछ कहा, उसकी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने आलोचना की है। बघेल का कहना है कि मोदी जी, हमें अपने आदिवासियों और जंगल पर गर्व है। प्रधानमंत्री के भाषण से भाजपा की करतूत साफ हो गई है। इससे स्पष्ट है कि भाजपा आदिवासियों और जंगल को खत्म करना चाहती है। बघेल का यह भी कहना है कि कांग्रेस स्मार्ट सिटी के खिलाफ नहीं है। शहरों को स्मार्ट बनाना भी आवश्यक है, लेकिन जंगल और आदिवासियों की कीमत पर कोई विकास मंजूर नहीं होगा।

भिलाई में प्रधानमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ की पहचान पिछड़ेपन, आदिवासियों और जंगल से होती रही है, आज यहां के शहर स्मार्ट सिटी के रूप में पहचान बना रहे हैं तो यह गर्व की बात है। इस पर पीसीसी अध्यक्ष बघेल का कहना है कि प्रधानमंत्री का भाषण बता रहा है कि भाजपा आदिवासियों और जंगल की पहचान से शर्मिंदा है। इस कारण जंगल को मनमाने ढंग कटवाया जा रहा है।

रमन सरकार के कार्यकाल में तीन फीसद वन क्षेत्र कम हो गया है। आदिवासियों को खत्म करने के लिए बस्तर के 700 गांव खाली करा दिए गए। नक्सलियों के नाम पर लगातार आदिवासियों पर अत्याचार हो रहा है। बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ पिछड़ा था और इस पर हम सबको अफसोस रहा है। कांग्रेस ने सबसे पहले छत्तीसगढ़ राज्य बनाने का प्रस्ताव विधानसभा में पारित किया था। अफसोस इस बात का भी है कि भाजपा की सरकार लगातार 15 साल से है, इसके बाद भी नीति आयोग के सीईओ को कहना पड़ा कि छत्तीसगढ़ देश के विकास में बाधा बन रहा है।

मोदी ने गरीबी का सही आंकड़ा बता दिया

पीसीसी अध्यक्ष बघेल का कहना है, अब तक यह धारणा थी कि प्रदेश में भाजपा सरकार के कार्यकाल में गरीबी का प्रतिशत 37 से बढ़कर 39.9 हो गया। प्रधानमंत्री ने सही बता दिया कि छत्तीसगढ़ की पहचान पिछड़ापन रही है। बघेल के मुताबिक प्रदेश में एक करोड़ 30 लाख गरीब हैं। मतलब, आधी आबादी गरीब है। अगर, मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और भाजपा का यही विकास मॉडल है तो यह उन्हें ही मुबारक।

आइआइएम, एम्स और एनआइटी को भूल गए

बघेल का कहना है कि प्रधानमंत्री भूल गए कि छत्तीसगढ़ में आइआइएम, एनआइटी, नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी और नेशनल यूनिवर्सिटी कांग्रेस के कार्यकाल में बने। एम्स का पूरा इंफ्रास्ट्रक्चर कांग्रेस के कार्यकाल में बना। जिस भिलाई इस्पात संयंत्र की शान में प्रधानमंत्री ने कहा, वह भी कांग्रेस की पहली केंद्र सरकार की दूरदर्शी सोच का परिणाम है। बघेल ने कहा कि मोदी से भिलाई इस्पात संयंत्र के कर्मचारियों, किसानों, बेरोजगारों को बड़ी घोषणा की उम्मीद थी।