बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

शुक्रवार की रात अशोकनगर-बिरकोना खार में आपत्तिजनक हालत में मिली बदहवाश युवती को होश आ गया है। युवती ने अपने बयान में बताया कि ऑटो चालक ने उसे समोसा व कोल्ड ड्रिंग्स दिया था। थम्सअप पीने के बाद युवती बेहोश हो गई थी। इसके बाद उसे कुछ याद नहीं है। युवती ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं करने की बात कही। लिहाजा, पुलिस उसे रायपुर के लिए रवाना कर कार्रवाई की औपचारिकता पूरी कर ली।

शनिवार की सुबह होश आते ही युवती अपने घर जाने की जिद करने लगी थी। इस पर पुलिस ने उसे बयान दर्ज कराने के लिए कहा। युवती ने बताया कि वह अपने परिचित के युवक से मिलने के लिए आई थी। स्टेशन से वह मंगला जाने के लिए निकली थी। लेकिन, उसके परिचित नहीं मिले। लिहाजा, वह ऑटो में बैठकर मंगला चौक आ गई। मंगला चौक में उसने ऑटो चालक से समोसा व कोल्ड ड्रिंग्स मंगाया। समोसा खाने के बाद थम्सअप पीते ही युवती बेहोश हो गई। इसके बाद उसे कुछ याद नहीं है। पुलिस को युवती के बयान पर भरोसा नहीं हो रहा है। दरअसल वह न तो मंगला चौक व नेहरू नगर जाने का सही समय बता पा रही है और न ही स्पष्ट जानकारी दी है। युवती ने गोलमोल बयान दिया है। पुलिस अफसरों ने भी इस मामले में पल्ला झाड़ने की कोशिश की और युवती पर ज्यादा दबाव नहीं बनाया। युवती के कार्रवाई नहीं चाहने की बात पर पुलिस ने राहत की सांस ली। फिर उसे रायपुर जाने के लिए स्टेशन में ट्रेन में बैठाकर लौट आई।

युवती के खिलाफ होनी थी कार्रवाई

युवती के बयान से पुलिस अफसरों को मामला संदिग्ध लग रहा है। ऐसे में पुलिस को युवती से सख्ती से पूछताछ करनी चाहिए थी। युवती को अस्पताल पहुंचाने वाले व प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार घटनास्थल में आपत्तिजनक सामग्री भी मिली है। लेकिन, पुलिस ने घटनास्थल तक का निरीक्षण नहीं किया। ऐसे में युवती के साथ क्या हुआ है। इसका अंदाजा लगाना मुश्किल है। हालॉकि, पुलिस ने मेडिकल रिपोर्ट में दुष्कर्म नहीं होने की पुष्टि की है। फिर भी युवती के संदिग्ध बयान के आधार पर पुलिस को उसके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए थी। या फिर सख्ती से पूछताछ कर सच्चाई का पता लगाना चाहिए था।