बिलासपुर। शादी के बाद नवयुगल जब हनीमून पर गए थे तभी नवविवाहिता के सामने पति के मोबाइल पर गर्लफ्रेंड ने कॉल कर दिया। इस अफेयर का राज खुलते ही पति-पत्नी के रिश्ते में दरार आ गई। पुलिस ने मामले की रिपोर्ट पर आरोपित पति व परिजन के खिलाफ दहेज प्रताड़ना का मामला दर्ज कर लिया है।

दुर्ग जिले के भिलाई निवासी संध्या की शादी 28 सितंबर 2017 को सिंधी कॉलोनी निवासी सन्नी वाधवानी के साथ हुई थी। सन्नी के पिता नंदलाल व परिजन ने शादी के पहले संध्या के परिजन को बताया था कि होने वाले दूल्हे का खुद का कारोबार है। उसके नाम पर हवेली है और कई दुकानें भी है। इसके चलते संध्या के परिजन ने रिश्ता तय कर दिया। शादी के बाद पति-पत्नी हनीमून पर गए थे तब सन्नी के मोबाइल पर किसी युवती का कॉल आया। इस बीच नवविवाहिता को पति के अफेयर की जानकारी हुई। इसके बाद से ही वह पति पर शक करने लगी थी। इसके चलते उनके रिश्तों में दरार आ गई।

वहीं शादी के कुछ समय बाद से ही विवाहिता का पति सन्नी व उसके परिवार के सदस्य नंदलाल, गीता पति सुनील, पीहू पति अनिल, रोशनी, पूजा, सुनीता, मीना, इंदु पति नंदलाल मिलकर दहेज के नाम पर उसे प्रताड़ित करने लगे। साथ ही उसे मायके से एक लाख रुपए की मांग करते हुए रकम लाने के लिए दबाव बनाने लगे। फिर नवविवाहिता को शारीरिक व मानसिक रूप से प्रताड़ित करने लगे।

इस बीच ससुरालवालों ने तरह-तरह से प्रताड़ित कर उसे घर से निकाल दिया। इसके चलते वह अपने मायके चली गई। वहां जाने के बाद महिला ने मामले की शिकायत पुलिस से की। इस बीच महिला परामर्श केंद्र में दोनों पक्षों के बीच काउंसलिंग भी हुई। लेकिन उनके बीच सहमति नहीं बनी। आखिरकार सिविल लाइन पुलिस ने आरोपित पति व अन्य के खिलाफ धारा 498 ए, 34 के साथ ही 4 दहेज अधिनियम के तहत अपराध दर्ज कर लिया है।

गर्भवती होने के बावजूद घर से निकाला

नवविवाहिता ने अपनी शिकायत में बताया है कि पति व ससुरालवाले उसे लगातार शारीरिक व मानसिक रूप से परेशान कर रहे थे। इसी बीच वह गर्भवती हो गई तब भी उसे ससुरालवालों की प्रताड़ित कम नहीं हुई। बल्कि उसे घर से ही निकाल दिया गया।