बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

पीजीबीटी कॉलेज मैदान में क्रिकेट खेलते-खेलते अचानक युवक के सीने में दर्द हुआ। इसके चलते बीच में ही छोड़कर उसके दोस्तों ने उसे घर पहुंचाया। इस बीच कमरे में आराम करते समय ही उसकी मौत हो गई। इस घटना से मोहल्ले में हड़कंप मच गया है।

सिटी कोतवाली क्षेत्र के टिकरापारा स्थित रेलवे कॉलोनी निवासी काजू उर्फ अभिषेक यादव पिता समयलाल (28) बाऊंसर का काम करता था। इसके साथ ही वह ड्राइवर भी था। रविवार अवकाश होने पर वह अपने दोस्तों के साथ क्रिकेट खेलने पीजीबीटी कॉलेज मैदान गया। सुबह करीब छह बजे से काजू अपने दोस्तों के साथ क्रिकेट खेल रहा था। इस दौरान दूसरी टीम के क्रिकेटर्स दोस्त भी थे। करीब 11.30 बजे काजू बॉलिंग करते समय उसके सीने में दर्द शुरू हुआ। वह कराहते हुए वह मैदान पर ही बैठ गया। तबीयत बिगड़ते देखकर काजू ने अपने दोस्तों को घर छोड़ने के लिए कहा। वहीं घर पहुंचते ही वह परिजन को बिना बताए अपने कमरे में आराम करने लगा। इस बीच वह बिस्तर में ही अचेत हो गया। बाद में परिजन की नजर पड़ी। वे तत्काल उसे आनन-फानन में जिला अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टर ने जांच के बाद उसे मृत घोषित कर दिया।

रेलवे में पदस्थ हैं पिता

काजू के पिता समय लाल रेलवे में कार्यरत हैं। रविवार को छुट्टी होने पर वह किसी काम से बाहर गए थे। काजू की तबीयत बिगड़ने पर परिजन ने उन्हें मोबाइल से सूचना दी।

0 परिवार में पत्नी व दो बच्चे भी हैं

काजू के परिवार में उसकी पत्नी उमा यादव और दो बच्चे भी हैं। अचानक हुई इस घटना के बाद परिवार के सदस्य सदमे में हैं। काजू की पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल है।

थाने में नहीं दी सूचना, पुलिस ने भी नहीं ली सुध

रोते-बिलखते परिजन की हालत देखकर स्थिति गमगीन हो गया था। इस बीच न तो जिला अस्पताल के डॉक्टर ने इस घटना की सूचना पुलिस को दी और न ही खबर मिलने के बाद भी पुलिस जिला अस्पताल पहुंची। कोतवाली पुलिस का कहना है कि इस घटना की मौखिक जानकारी मिली है। लेकिन, लिखित सूचना नहीं है। इसके चलते पुलिस कोई जांच नहीं कर रही है।