बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने दूरस्थ शिक्षा में व्यावसायिक पाठ्यक्रम शुरू करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। आदेश के बाद पं.सुंदरलाल शर्मा मुक्त विश्वविद्यालय में अचानक पूछताछ बढ़ गई है। इंजीनियरिंग, मेडिसिन, डेंटल, फार्मेसी, नर्सिंग, ऑकिटेक्चर, फिजियोथैरेपी, एग्रीकल्चर, होटल मैनेजमेंट जैसे कोर्स यहां शुरू नहीं हो पाएंगे।

यूजीसी ने डिस्टेंस कोर्स कराने वाले स्वायत्तता प्राप्त शिक्षण संस्थानों के डिस्टेंस कोर्स के नियमों में कुछ बदलाव किया है। प्रोफेशनल कोर्स जैसे एमबीबीएस समेत अन्य प्रोफेशनल कोर्स डिस्टेंस मोड से नहीं हो सकेंगे। वहीं, एमफिल और पीएचडी भी इस मोड से नहीं कराई जा सकती। यदि कोई शिक्षण संस्थान इन नियमों का उल्लंघन करता है तो उसकी ओपन डिस्टेंस लर्निंग की मान्यता रद कर दी जाएगी। गाइडलाइन के अनुसार अब शिक्षण संस्थान अपनी मर्जी से किसी कोर्स का नाम नहीं रख सकेंगे। उन्हें किसी डिस्टेंस कोर्स का नाम रखने व उस कोर्स की अवधि क्या रहेगी, इन सब बातों के लिए यूजीसी की मंजूरी लेनी होगी। यूनिवर्सिटी अगर डिस्टेंस मोड से कोई प्रोफेशनल कोर्स शुरू करना चाहती है तो उसे पहले यूजीसी से अनुमति लेनी होगी। सुंदरलाल शर्मा विवि में अभी तक नैक निरीक्षण भी नहीं हुआ है। इसके चलते स्वायत्तता हासिल करने का सपना भी अधूरा है।