बिलासपुर (निप्र)। जिला एवं सत्र न्यायाधीश एमडी कातुलकर के बंगले में शुक्रवार तड़के करीब 4 बजे अचानक बम फटने से हड़कंप मच गया। धमाके की आवाज सुनकर सुरक्षाकर्मियों के साथ ही श्री कातुलकर की भी नींद खुल गई। उन्हें एक धमकी भरा पत्र भी मिला है, जिसमें उन्हें झीरम कांड की सुनवाई से अलग रहने की चेतावनी दी गई है। हालांकि पुलिस इसे शरारती तत्वों की हरकत मानकर जांच में जुट गई है।

सिविल लाइन थाना क्षेत्र के नेहरू चौक में जिला न्यायाधीश श्री कातुलकर का बंगला है। शुक्रवार तड़के करीब 4 बजे बंगले के अंदर अचानक बम फटने की आवाज आई। जोरदार धमका सुनकर वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों में अफरा-तफरी मच गई। उन्होंने परिसर की तलाशी ली, लेकिन कुछ नहीं मिला।

इस बीच आवाज सुनकर डीजे श्री कातुलकर की भी नींद खुल गई। उनके गेट के पास एक धमकी भरा पत्र मिला। पत्र में लाल सलाम शब्द का उल्लेख करते हुए उन्हें झीरम घाटी कांड की सुनवाई से अलग रहने की चेतावनी दी गई है। इस घटना के बाद परिसर में हड़कंप मच गया।

रक्षाकर्मियों ने कंट्रोल रूम को सूचना दी। वहीं डीजे श्री कातुलकर ने पुलिस के आला अधिकारियों के साथ ही न्यायिक अफसरों को घटना की जानकारी दी। खबर मिलते ही आईजी पवन देव ने रात्रि गश्त पर मौजूद डीएसपी क्राइम अजीत पाटले को मौका-मुआयना करने के निर्देश दिए।

सूचना मिलते ही डीएसपी श्री पाटले समेत सिविल लाइन पुलिस मौके पर पहुंच गई। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि मौके पर सुतली बम फटा है। पुलिस संदेहियों की पतासाजी कर रही है। पुलिस ने इस मामले में धारा 506, 507, 189 प 3 (क) विस्फोटक अधिनियम के तहत अपराध दर्ज कर लिया है।