अंबिकापुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

अनमोल इंडिया चिटफंड घोटाले में कोतवाली पुलिस ने पूर्व सीएम रमन सिंह के बेटे व पूर्व सांसद अभिषेक सिंह, मधुसूदन यादव, राजनांदगांव के पूर्व महापौर नरेश डाकलिया समेत 20 आरोपितों के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध दर्ज कर लिया है। आरोपितों में 10 कंपनी के निदेशक हैं। सात आरोपितों पर छत्तीसगढ़ कोर कमेटी के सदस्य व प्रदेश में अनमोल इंडिया कंपनी को स्थापित कर प्रचार-प्रसार व संचालन करने का आरोप है। पूर्व सांसद सिंह, मधुसूदन यादव व नरेश डाकलिया कंपनी के स्टार प्रचारक थे। यही वजह है कि कोर्ट ने सभी आरोपितों के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज करने को कहा है।

अंबिकापुर के देवीगंज रोड निवासी प्रेम सागर गुप्ता (67) ने विशेष न्यायाधीश के समक्ष परिवाद पेश किया था। इसमें उन्होंने उल्लेख किया था कि अनमोल इंडिया कंपनी में 98 हजार 876 रुपये निवेश किए थे। निवेश की मियाद पूरी हो जाने के बावजूद उन्हें मूलधन तक वापस नहीं किया गया। इस बीच अचानक कंपनी ने अपना कारोबार समेट लिया और चंपत हो गया। प्रेम सागर गुप्ता ने धोखाधड़ी की शिकायत पुलिस से की। फिर उसने अफसरों से भी गुहार लगाई। आखिरकार उन्होंने विशेष न्यायाधीश की अदालत ने धारा 156 (3) के तहत परिवाद पेश कर दिया। इस बीच कोर्ट ने सभी पक्षों की सुनवाई की। बीते 30 मई के साथ ही तीन जून को इस चर्चित मामले की सुनवाई के बाद कोर्ट ने सभी आरोपितों के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध दर्ज करने का आदेश दिया। इसके बाद भी पुलिस ने उनकी शिकायत को नजरअंदाज कर दिया। आखिरकार कोतवाली पुलिस ने अनमोल इंडिया कंपनी के निदेशक अनमोल टावर वैशाली नगर नागपुर निवासी जावेद मेमन, सपुरा मेमन, मोहम्मद जुनेद मेमन, नीलोफर बानो, मोहम्मद खालिद मेमन ,नादिया बानो, हाजी उमर मेमन और लक्ष्मीनगर रायपुर निवासी फातिमा बानो, हमीद मेमन, तुलसी नगर राजनांदगांव निवासी शिबू खान के समेत अनमोल इंडिया कंपनी के कोर कमेटी के सदस्यों को कंपनी के प्रचार-प्रसार करने के लिए बालोद निवासी मूलचंद देवांगन, गुरुर बालोद के लोकेश साहू, कादुल गुंडरदेही के युवराज देवांगन, हीरापुर बालोद के परमानंद साहू, कंचनबाग राजनांदगांव के अनिल चौहान, संबलपुर बालोद के सुखदेवो साहू, दांडसेरा गुरुर बालोद के डीआर साहू और कंपनी के स्टार प्रचारक के रूप में कार्य करने वाले पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह के पुत्र पूर्व सांसद अभिषेक सिंह, मोतीपुर राजनांदगांव निवासी पूर्व सांसद मधुसूदन यादव, राजनांदगांव के पूर्व मेयर नरेश डाकलिया के खिलाफ धारा 420, 34 व छत्तीसगढ़ के निक्षेपकों के हितों का संरक्षण अधिनियम 2005 की धारा 10 के तहत अपराध दर्ज किया गया है।