बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

प्रतिबंधात्मक कार्रवाई के मामले में कोर्ट में पेश हुए आरोपी की जमानत लेने युवक फर्जी ऋण पुस्तिका लेकर पहुंच गया। मजिस्ट्रेट को उस पर शक हुआ। लिहाजा, उसे सिविल लाइन पुलिस को सौंप दिया गया। पुलिस ने फर्जी जमानतदार के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध दर्ज कर उसे जेल भेज दिया है।

जानकारी के अनुसार मामला सिविल लाइन थाना क्षेत्र का है। पुलिस ने सावन सोनकर पिता रमेश सोनकर के खिलाफ प्रतिबंधात्मक कार्रवाई करते हुए उसे रविवार को कोर्ट में पेश किया। इस दौरान उसे जमानत के लिए पट्टे की आवश्यकता थी। लिहाजा, उसने कुदुदंड निवासी शेख समीम पिता जमील सरीफ से संपर्क किया। वह जमानत लेने के लिए तैयार हो गया। लेकिन, वह रोहित कुमार के नाम की ऋ ण पुस्तिका लेकर कोर्ट पहुंचा था और अपने आपको रोहित कुमार बताने लगा। ऋण पुस्तिका को देखते ही सिटी मजिस्ट्रेट को शक हुआ। लिहाजा, उन्होंने उसकी जांच कराई। साथ ही संदेही युवक शेख समीम को सिविल लाइन पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस ने उसकी ऋ ण पुस्तिका की जांच की, जो फर्जी पाया गया। लिहाजा, पुलिस ने जांच के बाद आरोपी शेख समीम के खिलाफ धारा 420 के तहत अपराध दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया। सोमवार को उसे कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया है।