बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

मल्हार के वार्ड क्रमांक नौ निवासी नवमीं की छात्रा ने रविवार की रात कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इस बीच परिजन को उसकी मौत की भनक तक नहीं लगी। सुबह उन्हें बेटी की लाश फंदे पर लटकती मिली। मामले की जांच की जा रही है।

पुलिस के अनुसार यहां रहने वाला मंतराम जोशी गुजरात के सूरत स्थित फैक्टरी में काम करता है। उसके साथ उसका बड़ा बेटा भी वहीं रहकर काम करता है। दोनों अभी मल्हार में ही हैं। गांव में उसकी पत्नी हेमाबाई व बेटियां रहती हैं। दो बेटों व चार बेटियों में एक प्रियंका जोशी (14) भी थी। वह नवमीं कक्षा में पढ़ती थी। रविवार की रात प्रियंका ने परिजन के साथ खुद खाना खाई। फिर टीवी देखकर अपनी मां के साथ कमरे में सोने चली गई। दोनों अलग-अलग बिस्तर में सो रहे थे। इसके चलते उसकी मां को यह पता ही नहीं चला कि वह कब फंदे पर लटक गई। सोमवार की सुबह उसकी मां की नींद खुली, तो वह बेटी की लाश फंदे पर लटकते देखकर चौंककर चिल्ला उठी। इस घटना की जानकारी आसपास के लोगों को हुई। उन्होंने पुलिस को इसकी सूचना दी गई। इस घटना से परिजन भी हैरान व परेशान हैं। उन्हें समझ ही नहीं आ रहा है कि उनकी बेटी ने यह कदम क्यों उठाया। पुलिस मर्ग कायम कर मामले की जांच कर रही है। शव का पंचनामा व पोस्टमार्टम के बाद उसे परिजन को सौंप दिया है।

मामा गांव गए थे भाई-बहन

प्रियंका के भाई-बहन अपने मामा गांव आंकडीह गए हैं। वहां 12 अप्रैल को उनके मामा की शादी है। इसके चलते उसके पिता व बड़े भाई भी सूरत से यहां आए हैं। प्रियंका की मां हेमाबाई दिब्यांग है। लिहाजा, उसकी देखरेख व खाना बनाने के लिए प्रियंका घर में थी। इस घटना के बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।