Naidunia
    Saturday, February 24, 2018
    PreviousNext

    छत्तीसगढ़ व ओडिशा पुलिस को दो सप्ताह में गायब नाबालिग को पेश करने का आदेश

    Published: Wed, 14 Feb 2018 08:12 AM (IST) | Updated: Wed, 14 Feb 2018 08:12 AM (IST)
    By: Editorial Team

    बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

    हाईकोर्ट ने ओडिशा व छत्तीसगढ़ पुलिस को अगस्त 2017 से गायब नाबालिग व उसके अपहरण करने के संदेही को कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया है। गायब किशोरी के पिता ने हाईकोर्ट मे बंदीप्रत्यक्षीकरण याचिका दाखिल की है।

    महासंमुद जिला के ओडिशा सीमा के गांव में रहने वाली 17 वर्षीय किशोरी अगस्त 2017 से गायब हो गई। किशोरी के साथ गांव का सुनिल बारिक भी गायब है। परिवार वालों ने सुनिल बारिक पर अपहरण कर ले जाने की थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। इसके बाद भी किशोरी की तलाश नहीं करने पर पिता ने हाईकोर्ट में बंदीप्रत्यक्षीकरण याचिका दाखिल की है। इसमें आरोपी द्वारा अपहरण कर किशोरी को कहीं बचने या कोई अनहोनी किए जाने की आशंका व्यक्त की गई है। पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। पिछली सुनवाई में हाईकोर्ट ने महासमुंद एसपी को नोटिस जारी कर संदेही को कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया था। मामले को सुनवाई के लिए मंगलवार को सीजे की डीबी में रखा गया। सुनवाई के दौरान पुलिस की ओर से जवाब पेश कर बताया गया कि गायब किशोरी व संदेही ओडिशा सीमा के गांव से गायब है। छत्तीसगढ़ में उनके होने की सभी संभावित स्थान में तलाश की गई है। इस मामले में उनके ओडिशा में होने की संभावना को देखते हुए हाईकोर्ट छत्तीसगढ़ के साथ ओडिशा पुलिस को भी गायब किशोरी व संदेही सुनिल बारिक की तलाश का दो सप्ताह के अंदर कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया है।

    और जानें :  # odisha and chhattisgara
    प्रतिक्रिया दें
    English Hindi Characters remaining


    या निम्न जानकारी पूर्ण करें
    नाम*
    ईमेल*
    Word Verification:*
    Please answer this simple math question.
    +=

      जरूर पढ़ें