बिलासपुर । राशन दुकान के जरिए गरीबों को की जाने वाली शक्कर की आपूर्ति कानूनी दांव-पेंच में फंस गई है। इसके चलते नागरिक आपूर्ति निगम ने बिलासपुर संभाग के राशन दुकानों में शक्कर की सप्लाई नहीं कर पाया है। विवादों के चलते इस महीने गरीबों की चाय फीकी ही रहेगी।

राशन कार्डधारकों को प्रति महीने शक्कर की आपूर्ति के लिए राज्य शासन ने ठेका दे दिया है। हालांकि कंपनी और शासन के बीच रेट को लेकर विवाद की स्थिति है। यही नहीं ठेका कंपनी ने कोर्ट में मामला दायर कर दिया है। शक्कर की आपूर्ति कानूनी विवादों में फंसने के कारण सितंबर महीने के लिए ठेका कंपनी ने नागरिक आपूर्ति निगम को शक्कर की आपूर्ति नहीं की है।

इसके चलते संभागभर के राशन दुकानों में इस महीने नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा शक्कर की सप्लाई नहीं की गई है। शक्कर की आपूर्ति न होने के कारण राशन दुकान संचालकों को इस महीने कार्डधारकों को चावल व मिट्टी तेल की आपूर्ति करने कहा गया है।

मालूम हो कि राज्य शासन ने प्रदेशभर के राशन दुकानों को चावल व शक्कर की आपूर्ति के लिए नागरिक आपूर्ति निगम को अधिकृत किया है। लिहाजा हर महीने नान द्वारा खाद्यान्न का आवंटन और आपूर्ति उचित मूल्य दुकान संचालकों को की जाती है। इसके एवज में दुकान संचालकों द्वारा नान के नाम से ऑनलाइन पेमेंट जमा किया जाता है।

आपूर्ति के एवज में अब दुकान संचालकों से डिमांड ड्राफ्टस जमा करने की बाध्यता शासन ने खत्म कर दी है। अब बैंक अकाउंट के जरिए नान द्वारा सीधे राशि निकाल ली जाती है। खाद्यान बेचने के एवज में दुकान संचालकों को कमीशन की राशि भी अब उनके खाते में सीधे जमा करा दी जाती है।

संचालक व कार्डधारकों के बीच बनी विवाद की स्थिति

नान द्वारा शक्कर की आपूर्ति न करने का खामियाजा दुकान संचालकों को भुगतना पड़ रहा है। इसी महीने तीजा और गणेश चतुर्थी का त्योहार है। त्योहारी महीने में शक्कर न मिलने से कार्डधारक राशन दुकान संचालकों पर अपना गुस्सा उतार रहे हैं। उनको भरोसा भी नहीं हो रहा है कि त्योहार के वक्त शासन द्वारा शक्कर के कोटे में कटौती कर दी गई है। कार्डधारक संचालकों की बातों को संशय की नजरों से देख रहे हैं।

इस महीने शक्कर की आपूर्ति प्रभावित हो गई है। संभाग के राशन दुकानों में सप्लाई नहीं हो पाई है। कानूनी विवाद के चलते इस तरह की स्थिति बनी है। - नितिन दीवान-प्रबंधक,नागरिक आपूर्ति निगम