बिलासपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जल संसाधन विभाग के ईई स्व.वीके श्रीवास्तव के निवास से परिजनों से मिलकर बाहर निकल रहे थे उसी वक्त मुंगेली जिले के तीरथ राम यादव उनके आने का इंतजार करते खड़े थे। उसे देखते ही सीएम पास पहुंचे और आने का कारण पूछा। तीरथ राम ने बताया कि 10 फरवरी को उनके गांव में रावत नाच का आयोजन है। इतना कहने के साथ ही वे हाथ जोड़कर बोले कि उनसे अनुमति लिए बगैर मुख्यअतिथि के रूप में उनका(सीएम भूपेश बघेल) का नाम छपवाकर निमंत्रण पत्र भी बांट दिया है।

तीरथ ने विश्वास के साथ कहा कि मुझे भरोसा था आप आएंगे इसलिए आपसे पूछा बगैर मैंने आमंत्रण प़त्र छपवाकर बांट दिया है। इतना कहने के साथ ही उसने सिर पर पहनी पगड़ी उतारी और सीएम के पैर में रख दी और कहा कि मेरी इज्जत आपके हाथ में है। सीएम ने पगड़ी ली और तीरथ के सिर पर रख दिया। तीरथ के सिर पर पगड़ी रखने के साथ ही उसे गले भी लगा लिया और कहा कि 8 फरवरी से विधानसभा का सत्र शुरू हो रहा है। इसलिए मैं नहीं आ पाऊंगा पर हां किसी न किसी मंत्री को रावत नाच महोत्सव में जरूर भेजूंगा।

सीएम का आश्वासन पाकर तीरथ गदगद हो गया। इस दौरान कांग्रेस के दिग्गज नेताओं के साथ ही जिला प्रशासन के आला अधिकारी भी मौजूद थे। सीएम की सादगी देखकर कांग्रेसियों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। वहीं आला अफसर हतप्रभ रह गए।