बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

भवन शाखा में नक्शा पास करने के लिए जमकर उगाही होने की शिकायत के बाद निगम आयुक्त ने इस काम में जोन इंजीनियरों को भी लगा दिया है। अब नक्शा पास करने से पहले जोन इंजीनियरों से रिपोर्ट लेना जरूरी कर दिया गया है। उनकी रिपोर्ट के आधार पर ही भवन निर्माण की अनुमति दी जाएगी।

नगर निगम से नक्शा पास कराना अब भी आसान नहीं है। यहां जमकर उगाही होने की शिकायत है। ऐसा नहीं करने पर लोगों को बेवजह घूमाया जाता है और आपत्ति लगाई जाती है। निगम आयुक्त को हुई शिकायत के बाद अब इस काम में जोन इंजीनियरों को भी लगा दिया गया है। भवन निर्माण का नक्शा पास होने से पहले जोन इंजीनियर रिपोर्ट देंगे कि भवन निर्माण सामग्री भवन मालिक कहां रखेंगे। सड़क पर सामान रखने की दशा में पूर्व अनुमति लेनी होगी। निगम बकायदा शुल्क वसूलेगा। जोन इंजीनियर की रिपोर्ट के बाद भवन शाखा का स्टाफ किसी तरह की आपत्ति नहीं करेंगे। इसके बाद सीधे नक्शा पास करने की प्रक्रिया शुरू होगी। इसी तरह नक्शा पास करने की प्रक्रिया का सरलीकरण भी किया जा रहा है, ताकि लोगों को दिक्कत न हो। वर्तमान में फिर एक बार भवन शाखा से संबंधित सर्वाधिक शिकायत निगम को आना शुरू हो गया है। इसके चलते पारदर्शी व्यवस्था अपनाई जा रही है। मालूम हो कि नक्शा पास करने की प्रक्रिया ऑनलाइन होने के बाद भी अवैध वसूली में कमी नहीं आई है। इसका सीधा असर आम लोगों पर पड़ रहा है।

भवन शाखा में सालों से जमे हैं कर्मचारी

नगर निगम की भवन शाखा ऐसा विभाग है, जिसमें तैनात कर्मचारी, इंजीनियर का कभी स्थानांतरण नहीं होता। सब इंजीनियर गोपाल ठाकुर समेत आधा दर्जन कर्मचारी ऐसे हैं जिन्हें छह से सात साल तक एक ही शाखा में काम करते हुए हो गए। एकाधिकार होने के कारण भी नक्शा पास होने में जमकर उगाही की शिकायत आ रही है। लंबे समय से इनका स्थानांतरण दूसरी शाखाओं में नहीं हुआ है।

नक्शा पास करने से पूर्व जोन इंजीनियरों से रिपोर्ट ली जाएगी कि मकान मालिक भवन निर्माण सामग्री कहां रखेंगे। इसके बाद नक्शा पास करने की प्रक्रिया होगी। यदि कोई सड़क पर सामग्री रखता है तो निगम से उसकी अनुमति लेनी होगी।

प्रभाकर पांडेय

आयुक्त, नगर निगम