रायपुर, नईदुनिया, राज्य ब्यूरो। केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह ने कहा कि आज भारत का इस्पात उद्योग बुलंदियों की नित नई ऊंचाई को छू रहा है, वह प्रधानमंत्री के कुशल निर्देशन की देन है। उन्होंने कहा कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की बागडोर संभाली, तब इस्पात उद्योग घाटे में चल रहा था। भारत इस्पात उत्पादन में विश्व में चौथे स्थान पर था। वर्ष 2017 में बनी राष्ट्रीय नीति के बाद हम देश नहीं दुनिया की जरूरत को पूरा करने के बराबर इस्पात उत्पादन कर रहे हैं।

भारत ने इस्पात उत्पादन में पहले अमेरिका को पीछे छोड़ा, अब चार महीना पहले जापान को पीछे छोड़ दुनिया में दूसरे नंबर पर आ गया। आज हम पहले की तुलना में 134 फीसद इस्पात दूसरे देशों को निर्यात कर रहे है। इतना ही नहीं देश में आयात होने वाले 40 फीसद इस्पात को बंद भी किया। उन्होंने कहा कि हमने 260 मीटर लंबी पटरी का निर्माण कर दुनिया में रिकार्ड कायम किया है। प्लांट विस्तारीकरण के बाद हम बुलेट ट्रेन के लिए पटरी का निर्माण यहीं कर पाएंगे, इसे आयात नहीं करना पड़ेगा।

बौद्धिक क्षमता के क्षेत्र में जुड़ा एक नया सोपान : प्रेमप्रकाश

उच्च शिक्षा मंत्री प्रेमप्रकाश पांडेय ने कहा कि भिलाई के लिए यह ऐतिहासिक क्षण है। भिलाई में आज एक नए बौद्घिक क्षमता का सोपान हुआ है। मोदी के सम्मान में उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री इतने विनम्र हैं कि दुश्मन देश के राष्ट्राध्यक्ष को जन्मदिन की बधाई देने उनके घर तक चले जाते हैं, लेकि जब बात देश की सुरक्षा पर आती है तो सर्जिकल स्ट्राइक करने से भी पीछे नहीं हटते हैं। प्रधानमंत्री ने भारतीय योग को दुनिया में वह आयाम दिया, जिसे आज पूरी दुनिया मनाती है। पांडेय ने मुख्यमंत्री का अपने क्षेत्र में अभिनंदन करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने 14 वर्ष में गरीबों के पेट व किसानों की जेब का बेहतर ख्याल रखा है।