पᆬोटो क्रमांक- 17जेएसपी 7, 8 कार्यशाला में उपस्थित बच्चे व प्रशिक्षक।

सिंगीबहार। नईदुनिया न्यूज। तपकरा के ज्ञानोदय इंग्लिश मीडियम स्कूल में जशपुर वाइल्डलाइफ वेलफेयर फाउंडेशन के द्वारा बर्ड वाचिंग कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें बच्चों को पक्षियों के संरक्षण के लिए प्रेरित किया गया। वनमंडल जशपुर एवं जशपुर वाइल्ड लाइफ वेलफेयर फाउंडेशन के द्वारा पक्षियों के संरक्षण के लिए उड़ान नामक एक सतत कार्यक्रम चलाया जा रहा है।

जशपुर वाइल्ड लाइफ वेलफेयर फाउंडेशन के प्रवीण सिंह ने बताया कि जशपुर में 220 से ज्यादा प्रकार के पक्षी पाए गए हैं। जिनमे 70 से ज्यादा प्रवासी हैं। उनकी पूरी टीम ने यह शपथ ली है कि इनके संरक्षण संबंधी जानकारी देने के साथ पर्यावरण संरक्षण में हरसंभव भागीदरी निभाएंगे। इस दौरान बच्चों में कापᆬी उत्साह और जानने के लिए उत्सुकता देखने को मिली। बच्चों ने कई सवाल पᆬाउंडेशन के सदस्यों से पूछा जिसका उन्होंने जवाब दिया । प्रवीण सिंह ने बताया कि जिले में पक्षियों की स्थिति आज खराब हो रही है, जिसका कारण हमारी संवेदना है। हमें पक्षियों के संरक्षण के लिए अपने-अपने स्तर पर कार्य करना होगा। जिले में शिकारियों की सक्रियता को लेकर भी पᆬाउंडेशन के द्वारा बताया गया और कहा गया कि यदि कोई पक्षी को चोट पहुंचाता है या मारता है तो इसकी शिकायत की जा सकती है और कड़े प्रावधान भी हैं। जशपुर के नीमगांव डेम के संबंध मे प्रवीण सिंह ने बताया कि यहां प्रवासी पक्षियों का बड़ी संख्या में आना होता है और बड़ी संख्या में पर्यटक भी यहां पक्षियों को देखने के लिए आ रहे हैं।

-------------------

न्यूस 2

जैन समाज को हेमंत गंगवाल ने दान किया भगवान की सवारी के लिए रथ , बीते पर्युषण पर्व के दौरान ने समाज को रथ समर्पित करने की जताई थी इच्छा । उन्होंने अपनी इच्छा को वास्तविकता में बदल कर समाज को दान दे ही दिया ॥ जिसमे इस वर्ष प्रथम बार महावीर जयंती के दिन प्रभु की सवारी निकली ॥ इस आकर्षक रथ का निर्माण अजमेर (राजस्थान) में हुआ । निर्माता का नाम श्री चांदमल जी शर्मा है, चांदमल जी जैन समाज का समर्पण जैन समाज के प्रति ज्यादा है उन्होंने 6 माह के भीतर एक रथ तैयार किया है॥ इस दान को देख समाज की खुशी का ठिकाना नहीं रहा और महावीर जयंती को एतिहासिक रूप दिया द्य समाज ने श्री हेमंत गंगवाल का सम्मान किया इस सम्मान में हेमंत गंगवाल जी भावुक हो उठे और जैन समाज कुनकुरी के प्रति और समर्पित रहने का भावना व्यक्त किया द्य

न्यूस

आज दिगम्बर जैन समाज के च् वीं सदी के प्रथम आचार्य श्री शांति सागर जी महामुनिराज का च्च् वां जन्म महोत्सव भी मनाया गया द्य इस अवसर पर आचार्य श्री की आरती उतारी गई मंगल पाठ किया गया द्य

ख्17ध्04, 17रू14, अनिकेतरू जशपुरनगर। जैन धर्म के 24 वें व अंतिम तीथर्कर भगवान महावीर स्वामी की जयंती के अवसर पर यहां के श्री महावीर दिगंबर जैन मंदिर में बुधवार की सुबह भगवान महावीर स्वामी का अभिषेक किया गया। उसके बादजैन समाज ने शहर में भगवान महावीर की भव्य शोभा यात्रा भी निकाली। शोभा यात्रा में अहिंसा एवं शाकाहार की जागरुकता संबंधित नारे लगाकर लोगों को संदेश दिया गया। शोभा यात्रा के दौरान शहर की सड़कें भजनों से गूंज उठी थीं।

शहर में दिगंबर जैन समाज के मतावलंबियों ने जैन मंदिर में भगवान महावीर का अभिषेक कर उनकी पूजा-अर्चना की। उन्होंने भगवान महावीर स्वामी के बताए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया। दोपहर में जैन समाज के लोगों ने शोभा यात्रा निकाली। शोभा यात्रा श्री दिगंबर जैन मंदिर से निकल कर बस स्टैंड, पुरानी टोली, जिला अस्पताल रोड, बालाजी मंदिर रोड, महाराजा चौक होते हुए पुनरू जैन मंदिर पहुंची। इस अवसर पर जैन समाज के लोगों ने भगवान महावीर का ध्वजारोहण एवं अभिषेक किया गया। जयंती के मौके पर कई धार्मिक कार्यक्रमों का भी आयोजन किया गया। जैन समाज की महिलाएं व पुरूष पारंपरिक परिधानों में सजे-धजे शोभा यात्रा में शामिल हुए।

रथारूढ़ हुए भगवान महावीर

जैन समाज के सदस्यों ने भगवान महावीर स्वामी को रथ में विराजमान करा कर शोभायात्रा निकाली। शोभायात्रा में भगवान महावीर के उपदेशों देते जैन समाज के युवा चल रहे थे। समाज एवं अन्य लोगों ने जगह-जगह पर शोभायात्रा में शामिल लोगों का स्वागत किया। उनके लिए मार्ग में जगह-जगह ठंडे पेय पदाथोर् की व्यवस्था की गई थी। मंदिर पहुंचने के बाद भगवान महावीर का अभिषेक किया गया। इसके अलावा जैन नवयुवक मंडल व श्री संघ महिला संगठन द्वारा जिला अस्पताल में मरीजों को फल वितरण किया गया व भंडारे का आयोजन किया गया। जिसमें बड़ी संख्या में लोगों ने प्रसाद ग्रहण किया।

हुई सामूहिक महाआरती

भगवान महावीर स्वामी के अभिषेक के बाद जैन समाज के लोगों ने मंदिर में भगवान की सामूहिक आरती की। इसके पश्चात जैन भवन में सामूहिक भोज का आयोजन किया गया। जिसमें बड़ी संख्या में लोगों ने भाग लिया। इस मौके पर वहां मौजूद सभी जैन धर्मावलंबियों ने भगवान महावीर स्वामी के संदेशों को आत्मसात करने, शाकाहार और अहिंसा के लिए लोगों को प्रेरित करने का भी संकल्प लिया। वहीं देर शाम से जैन मंदिर में भजनों व सांस्-तिक कार्यक्रमों का दौर चलता रहा।

----------------------------------------------।