रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

फूल प्रदर्शनी के तीसरे दिन भी लोगों की भीड़ देर शाम तक गांधी-नेहरू गार्डन में लगी रही । वहीं रंग-बिरंगी फूलों से गुलजार हुए उद्यान को देखने के लिए परिवार के संग लोग सुबह से ही यहां पहुंच रहे थे। जहां किस्म-किस्म के फूलों की खूबसूरती लोगों को मोह रही है। फूलों की खुशबू से पूरा माहौल सुगंधित और खुशनुमा कर है। तीन दिवसीय प्रदर्शनी लगी है। प्रकृति की ओर के पुष्प, फल और सब्जी प्रदर्शनी में सोमवार को लोगों की काफी भीड़ रही । वहीं फल-फूल प्रदर्शनी का समापन समारोह में मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रहे। जिनके हाथों किसानों को मंच पर पुरस्कृत किया गया।

प्रथम पुरस्कार मिला रायपुर को

इस वर्ष इस प्रदर्शनी की प्रतियोगिता में प्रदेश के 27 जिलों के किसानों ने भाग लिया। इस प्रदर्शनी/प्रतियोगिता में रायपुर बस्तर/जशपुर/सरगुजा में किसानों द्वारा उपजाई गई काली मिर्च/ काफी और कोको के उत्पाद भी विशेष उल्लेखनीय हैं। वहीं प्रादर्श में रायपुर को सबसे अधिक पुरस्कार मिले। जिसमें 20 विभिन्न तरह के सब्जी, फल शामिल रहे। इसी तरह से राजनांदगांव दूसरे स्थान पर रहा । प्रदर्शनी में कुल 127 पुरस्कार वितरण हुए, जिसमें 71 किसानों को प्रथम, 51 द्वितीय पुरस्कार दिया गया।

फूल संग सेल्फी की होड़

इस प्रदर्शनी में बोरियाकला स्कूल के विद्यार्थियों द्वारा बनाई गई फूल की रंगोली के साथ आयोजन मंच की सजावट के लिए पुरस्कार दिया गया। इसी तरह से जहां लोग रंग-बिरंगे विभिन्न तरह के फूलों की सुंदरता को निहार रहे थे, वहीं दूसरी तरफ उद्यान पहुंचे लोग फूलों के संग सेल्फी लेते दिखे। प्रदर्शनी में आयोजित चित्रकला, रंगोली प्रतियोगिता में 106 स्कूली छात्रों ने भाग लिया। जिन्होंने विभिन्न विषयों पर रंगोली व चित्रकला की प्रस्तुति दी। कृषि विश्वविद्यालय, उद्यानिकी विभाग, औषाधि पादप बोर्ड, लघु वनोपज उत्पादक संघ, एवं अन्य शासकीय तथा आशासकीय संस्थाओं के भी विशेष स्टाल लगाये गये है।

गमले की रही मांग

प्रर्दशनी में स्थानीय के अलावा विदेशी कट फ्लावर के गमले कई प्राइवेट संस्थाओं के लगे थे। जिसमें एन्टी राइनम, डायन्थम, जरबेरा, पिटुनिया, केलेन्डुला, सेवंती, रजनीगंधा, विभिन्न रंग के गेंदे से उद्यान महक उठा है। प्रदर्शनी में कृषि विश्वविद्यालय की तरफ से किचन के गंदे पानी को कैसे उपयोगी बनाया जाए, इस पर जानकारी दी जा रही है। वहीं स्ट्राबेरी के सबसे छोटे गमले को देखने के लिए भीड़ लगी थी । साथ ही विभिन्न तरह के डिजाइन दार गमलों की मांग रही। उद्यान प्रमुख छत्तीसगढ़ शासन मनोज अम्बस्त ने बताया कि प्रदर्शनी प्रांगण में किसानों के माध्यम से 1486 सब्जी/ फलों के प्रार्दप एवं 200 किसानों के उत्पादित फूलों के उपज के प्रादर्श भी प्रतियोगिता में शामिल रहे ।