कोरबा। नईदुनिया न्यूज

डाक विभाग अपने खाताधारकों को घर पहुंच सेवा उपलब्ध कराएगी। आगामी 19 जून से डाकघर कोर सिस्टम इंटीग्रेटेड (सीएसआइ) प्रणाली शुरू हो जाएगी। इसके तहत डाकघर भी ऑनलाइन सुविधा से जुड जाएगा। डाकघर के खाताधारक को अपना पैसा निकालने या जमा कराने के लिए डाकघर नहीं आना पड़ेगा, बल्कि डाकिए ही घर-घर जाकर पैसे लेंगे और भुगतान करेंगे।

केंद्र सरकार की ओर से डाकघरों को भी स्मार्ट बनाने की प्रक्रिया शुरू की गई है। अभी तक डाकघर लोकल सर्वर के आधार पर ही काम करते थे और ग्राहकों को सुविधा प्रदान करते थे। अब डाकघर को ऑनलाइन से जोड़ने का काम शुरू हो गया है। इसके तहत डाकघर भी सेंट्रल सर्वर से जुड़ जाएगा और नेटबेस कामकाज होगा। जानकारों का कहना है कि सीएसआइ सिस्टम लगाने की प्रक्रिया आरंभ हो चुकी है और यह काम 18 जून तक पूरा किया जाएगा। इसके बाद 19 जून से ग्राहकों को यह सुविधा मिलने लगेगी। सुविधा अपग्रेड होने से डाकघर का कामकाज भी घर बैठे उपभोक्ता कर सकेंगे। बताया जा रहा है कि छत्तीसगढ़ में अब तक रायपुर डाकघर ही ऑनलाइन हुआ है, अब कोरबा मुख्य डाकघर को ऑनलाइन किया जा रहा है। ऑनलाइन होने के बाद डाकघर के स्टापᆬ एवं डाकियों को भी कोर बैकिंग समेत अन्य कार्य की ट्रेनिंग प्रदान की जाएगी। सेंट्रल सर्वर होने से ग्राहकों को यह भी फायदा मिलेगा कि वे अपने शहर समेत अन्य स्थान पर भी डाकघर की सुविधा का फायदा उठा सकेंगे।

बाक्स

बंद रहेगा 17-18 को काम

डाकघर को ऑनलाइन सिस्टम से जोड़ने की कवायद प्रबंधन ने शुरू कर दी है। प्रदेश में अब तक रायपुर डाकघर में ही ऑनलाइन सुविधा शुरू हुई है। अब कोरबा डाकघर को भी जोड़ा जा रहा है, इसलिए 17 एवं 18 जून को डाकघर में आमजनों के लिए कामकाज नहीं होगा। प्रबंधन व कर्मचारी दो दिन में पूरे सिस्टम को अपग्रेट कर ऑनलाइन से जोड़ेंगे, ताकि ग्राहकों को सुविधा देने में किसी तरह की दिक्कत न हो।

बाक्स

डाकिए को मिलेगी स्वाइप मशीन

विभाग डाकिए को स्वाइप मशीन उपलब्ध कराएगा। मशीन लेकर डाकिए ग्राहकों के घर जाएंगे तथा कोर बैकिंग की तरह ही राशि ग्राहकों को राशि निकालने एवं जमा करने की सुविधा प्रदान करेंगे। इसके लिए ग्राहकों को डाकघर से मोबाइल नंबर जोड़ कर लिंक बनाना होगा। स्वाइप मशीन से लेन-देन की प्रक्रिया पूरी करने के बाद ग्राहकों को डाकिए मशीन की रसीद भी उपलब्ध कराएंगे।

वर्सन

डाकघर को कोर सिस्टम इंटीग्रेटेड से जोड़ा जा रहा है। 19 जून को यह सुविधा शुरू हो जाएगी। इसके साथ ही डाकघर भी ऑनलाइन होकर सेंट्रल सर्वर से जुड़ जाएंगे तथा नेट आधारित कामकाज होगा। कोर बैकिंग के साथ ही खाताधारकों को घर पहुंच राशि जमा करने के साथ ही भुगतान का फायदा मिलेगा।

- विनीत सिंह, सहायक डाकपाल, मुख्य डाकघर कोरबा