दंतेवाड़ा। नक्सलियों की तलाश में निकली जिला रिजर्व गार्ड और स्पेशल टॉस्क फोर्स की टीम ने बीजापुर के सीमाई इलाके से हथियार बनाने के औजार बरामद किया है। यह औजार नक्सली एक चट्टान के पास छिपा रखा था। शंका के आधार पर जवानों ने तलाशी की तो बड़ी मात्रा में औजार और सामान मिले। इनमें से कुछ को लेकर जवान शुक्रवार शाम को जिला मुख्यालय लौटे हैं।

पुलिस अधिकारियों के अनुसार बैलाडिला के तराई में नक्सलियों की मौजूदगी सूचना थी। इसके बाद डीआरजी और एसटीएफ की एक टीम 11 सितंबर को बीजापुर जिले से लगे इलाके में सर्चिंग कर रही थी। बीच जंगल में एक चट्टान के पास जवानों को बम आदि होने की आशंका हुई।

टीम ने जब मौके पर बारिकी से तलाशी ली तो वह औजारों का जखीरा मिला। पुलिस के मुताबिक औजारों का यह जखीरा नक्सलियों का है, जिसे हथियार बनाने के लिए नक्सलियों ने डंप कर रखा था। इन औजारों में छेनी- हथोड़ा के अलावा कील, पेंचकस, आरी, पटासी, रायफल के पाइप सहित अन्य सामग्री और कुछ साहित्य शामिल है। बताया जा रहा है कि कुछ सामान को जवानों ने वहीं नष्ट कर दिया और कुछ औजार और सामग्री लेकर शुक्रवार की शाम जिला मुख्यालय लौटे हैं।

इधर फोर्स पहुंचने से पहले निकाल ले गए बम

किरंदुल थाना क्षेत्र के चोलनार- मदाड़ी नाला के पास जवानों को नुकसान पहुंचाने लगाए बम नक्सली फोर्स के पहुंचने से पहले निकाल ले गए। सूत्रों के मुताबिक पुलिस को सूचना मिली थी चोलनार- मदाडी नाला के पास एक पुल के करीब नक्सलियों ने बम लगा रखा है।

इस सूचना की तस्दीक में शुक्रवार की सुबह जवान मौके पर पहुंचे लेकिन वहां ऐसा कुछ नहीं मिला। जब सर्चिंग चल रही थी, तब सड़क से करीब 50 मीटर दूर जंगल की ओर एक जगह जमीन में दबा हुआ इलेक्ट्रीक वायर मिला। यह वायर करीब 30 मीटर लंबा जमीन में दबा था और शेष वायर एक लकड़ी से लपेट कर रखा गया था।

माना जा रहा है कि नक्सली आसपास कहीं बम लगाने की योजना बना रहे थे। इसके लिए पहले वायर बिछाने के बाद बम प्लांट करते। या फिर बारिश से पहले बम निकालकर अन्यत्र ले गए हैं। बावजूद किरंदुल थाना की फोर्स इलाके की सर्चिंग कर रही है।

इनका कहना है

'बैलाडिला की पहाड़ी पर सर्चिंग पर निकली फोर्स ने बीजापुर के सरहदी इलाके से बड़ी मात्रा में औजार बरामद किया है। इसका उपयोग नक्सली हथियार बनाने के लिए चट्टान के पास छिपा रखा था।

-गोरखनाथ बघेल, एएसपी, नक्सल ऑपरेशन