मुदंतेवाड़ा। छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों के खिलाफ चलाए जा रहे ऑपरेशन मानसून में सुरक्षा बलों को रविवार को बड़ी सफलता मिली। डिस्ट्रिक रिजर्व गार्ड(डीआरजी) व नक्सलियों के बीच हुए मुठभेड़ में दो हार्डकोर नक्सली मार गिराए गए। मारे गए नक्सलियों में एक महिला भी शामिल है। दोनों पर पांच-पांच लाख का इनाम घोषित था।

एसपी डॉ. अभिषेक पल्लव ने बताया कि बड़े नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना पर शनिवार रात जवानों की टीम को किरंदुल थाना क्षेत्र केगुमियापाल जंगल में भेजा गया। रविवार सुबह फोर्स को देख नक्सलियों ने फायरिंग की। जवाबी कार्रवाई में एक महिला और एक पुरुष नक्सली मारे गए।

सुरक्षा बलों को भारी पड़ता देख नक्सली भाग निकले। सर्चिंग के दौरान मौके से दोनों शव तथा एक राइफल, एक कट्टा, एक टिफिन बम और अन्य समान बरामद किया गया। मारे गए नक्सलियों की शिनाख्त दरभा डिवीजन मेडिकल टीम प्रभारी तथा मलांगिर एरिया कमेटी सदस्य मंगली हेमला पुत्री विनोद निवासी जगरगुंडा थाना सुकमा और मलांगिर एरिया कमेटी सदस्य व सीएनएम कमांडर शंकर हेमला उर्फ देवा निवासी जंगमपाल, कुकानार के रूप में हुई है।


मंगली के पिता और पति भी नक्सली लीडर

मुठभेड़ में मारी गई महिला नक्सली मंगली, नक्सली नेता देवा उर्फ विनोद की पुत्री और जगदीश की पत्नी है। जगदीश और विनोद दोनों सीसी मेंबर हैं। उन पर क्रमश आठ व 10 लाख रुपये का इनाम घोषित है। इनका दबदबा दरभा डिवीजन कमेटी में बना हुआ है। सुकमा, दंतेवाड़ा जिले में इनकी धमक बनी हुई है। दोनों जिलों के कई नक्सली वारदात में इनकी संलिप्तता पुलिस रिकॉर्ड में दर्ज है।