धमतरी। नईदुनिया प्रतिनिधि

जिले में शासकीय आयुर्वेद औषधालय, होम्योपैथी औषधालय, आयुष विंग, स्पेशलाइज्ड थैरेपी सेंटर, स्पेशलिटी क्लीनिक व आयुष पॉली क्लीनिक समेत 36 अस्पताल जिले में आयुर्वेद विभाग द्वारा संचालित हैं। इनमें से अधिकांश संस्थाओं में आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारियों की कमी बनी हुई है। आयुर्वेद औषधालय में नियमित से ज्यादा संविदा डॉक्टरों की सेवा ली जा रही है। वहीं इन संस्थाओं में फार्मासिस्ट समेत अन्य कर्मचारियों की कमी सालों से बनी हुई है। पर्याप्त डॉक्टर व कर्मचारियों के नहीं होने से सेवाए थोड़ी बाधित भी है।

धमतरी, कुरूद, मगरलोड और नगरी ब्लाक में कुल 29 शासकीय आयुर्वेद औषधालय है, जहां आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारियों की कमी सबसे ज्यादा है। जिला आयुर्वेद कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारियों के 29 पद स्वीकृत है, जिसमें सात नियमित डॉक्टर है। जबकि नौ संविदा डॉक्टर है। ज्यादातर औषधालय संविदा डॉक्टरों के भरोसे संचालित है। आयुर्वेद डॉक्टरों की कमी के चलते पदस्थ डॉक्टरों को एक से अधिक औषधालयों का प्रभार दिया गया है, जहां वे मरीजों का उपचार करते हैं। कुछ ऐसे भी जगह है कि जहां का औषधालय फार्मासिस्ट व औषधालय सेवक के भरोसे पहले संचालित हो रहा था, लेकिन संविदा डॉक्टरों के पदस्थ होने के बाद थोड़ी राहत मिली है। हालांकि औषधालयों में अभी भी आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारियों के 13 पद रिक्त है, जिसमें भर्ती किया जाना है। जिला आयुर्वेद कार्यालय विशेषज्ञ चिकित्सक व होम्योपैथी चिकित्सकों की कमी की जानकारी उच्च कार्यालयों को पत्र के माध्यम से भेजकर सालों से आयुर्वेद चिकित्सकों के रिक्त पदों के विरुद्ध डॉक्टरों की मांग कर रहे हैं, लेकिन अब तक डॉक्टर नहीं मिल पाए है।

विशेषज्ञ चिकित्सक व होम्योपैथी चिकित्सकों की कमी

होम्योपैथी औषधालय में होम्योपैथी चिकित्सा अधिकारी के एक पद रिक्त है। आयुष विंग, स्पेशिलिटी क्लीनिक, स्पेशलाइज्ड थेरेपी और आयुष पॉली क्लीनिक में भी विशेषज्ञ चिकित्सक, आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी और यूनानी चिकित्सा अधिकारी के पद रिक्त है। विशेषज्ञ चिकित्सक के चार में से तीन पद भरे हैं। एक पद रिक्त है। आयुष पॉली क्लीनिक में आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी के एक पद और यूनानी चिकित्सा अधिकारी के एक पद रिक्त है। इसके अलावा सहायक ग्रेड-तीन, आयुर्वेद फार्मासिस्ट, औषधालय सेवक, होम्योपैथी फार्मासिस्ट, पंचकर्म सहायक समेत अन्य कर्मचारियों के रिक्त पद खाली है। आयुर्वेद विभाग में संचालित 36 संस्थाओं में आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारियों समेत कई कर्मचारियों के कमी के चलते कार्य प्रभावित होते रहते हैं। रिक्त पदों पर भर्ती के लिए शासन स्तर पर गंभीरता नहीं दिखाई जा रही है।

शासन को भेजी गई जानकारी

'शासकीय आयुर्वेद औषधालय समेत कई जगह आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी व अन्य कर्मचारियों की कमी है। रिक्त पदों की जानकारी शासन स्तर पर भेज दी गई है। भर्ती प्रक्रिया शासन स्तर से होती है।'

-डॉ. सीपी देवांगन, जिला आयुर्वेद अधिकारी धमतरी।

----