बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

डीएलएस पीजी कॉलेज में बीएससी प्रथम वर्ष के 110 परीक्षार्थी प्रायोगिक परीक्षा से वंचित हो गए हैं। गुरुवार को नाराज स्टूडेंट्स ने परीक्षा नियंत्रक डॉ.प्रवीण पांडेय का घेराव कर प्रायोगिक परीक्षा की मांग की। उन्होंने छात्र हित में निर्णय लेने का आश्वासन दिया।

स्टूडेंट्स ने कहा कि यूनिवर्सिटी और कॉलेज के बीच खींचतान के कारण उनके भविष्य पर संकट गहरा गया है। इस अवसर नियमित और स्वाध्यायी छात्र उपस्थित थे। परीक्षा नियंत्रक को ज्ञापन सौंपकर तत्काल प्रायोगिक परीक्षा कराने मांग की। बीएससी प्रथम वर्ष के छात्रों ने यह भी खुलासा किया प्रायोगिक परीक्षा को लेकर मार्च से चक्कर काट रहे हैं। मुख्य परीक्षा के चलते अधिकारी भी टालते रहे। लेकिन अभी तक कोई गाइडलाइन जारी नहीं होने से संकट गहरा गया। साल बर्बाद होने का भय सताने लगा है। परीक्षा नियंत्रक डॉ.पांडेय ने कहा कि छात्रों ने ज्ञापन सौंपा है। किन वजहों से प्रायोगिक परीक्षा संभव नहीं हुआ इसका पता लगाया जाएगा। छात्रहित में निर्णय लेंगे।

संभाग से प्रायोगिक के 96 स्टूडेंट

डीएलएस के अलावा संभाग के अन्य कॉलेजों से भी परीक्षार्थी पहुंचे थे। सहायक कुलसचिव सीएचएल टंडन ने कहा कि स्वाध्यायी के 96 परीक्षार्थियों को चिन्हांकित किया गया है। कुलपति के पास अनुमति के लिए फाइल भेजा गई है जिसके बाद आगे की प्रक्रिया पूरी करेंगे। फिलहाल अभी कोई निर्णय नहीं हुआ है।