रायपुर। बारिश जिस रफ्तार से हो रही है, वह रफ्तार आने वाले दो-तीन दिन तक तो कम होने वाली नहीं है। यह किसानों के लिए तो अच्छी खबर है और जल संसाधन विभाग के लिए भी, क्योंकि सभी जलाशय लबालब हो जाएंगे, लेकिन यह बारिश शहर की कुछ बस्तियों के लिए मुसीबत बन गई है, जिनमें शांति नगर, जल विहार कॉलोनी, शंकर नगर, मोवा, दुबे कॉलोनी, प्रोफेसर कॉलोनी, कविता नगर, महावीर नगर, देवेंद्र नगर प्रमुख रूप से शामिल हैं। इन कॉलोनियों के कुछ हिस्सों में तो घुटनों-घुटनों पानी भरा हुआ है, घरों तक में पानी भर चुका है। शहर के कुछ ऐसे प्रमुख मार्ग भी हैं, जहां डेढ़ से दो इंच पानी भर गया। इसे आषाढ़ में ही सावन जैसी झड़ी माना जा सकता है। पानी एक तरफ मुसीबत है, तो दूसरी तरफ राहत।

शहर में ट्रेनेज सिस्टम न होने की वजह से यह बारिश परेशानी का सबब बन गई है। आने वाले सालों में भी ट्रेनेज को लेकर नगर निगम का कोई प्रोजेक्ट नहीं है, न ही अफसर इसे लेकर चिंतित हैं। अफसर कहते हैं कि बारिश का पानी है, बारिश रूकते के आधे घंटे में उतर जाएगा। मौसम वैज्ञानी एचपी चंद्रा के मुताबिक उत्तर, दक्षिण छत्तीसगढ़ में अच्छी बारिश होगी।

गड्ढे सड़क में, सड़क में भरा पानी- शहर के देवेंद्र नगर, शांति नगर समेत अन्य कॉलोनियों में केबल बिछाने के लिए गड्डे खोदे गए, जिन्हें कंपनी पाटना भूल गई। या फिर अन्य कार्यों के लिए गड्डे निगम ने ही नहीं पाटे। अब जब सड़क में पानी भरा तो गड्डे कहां दिखाई देंगे। ऐसे में हादसे हो रहे हैं।

स्कूल, कॉलेज में भरा पानी

देवेंद्र नगर कन्या महाविद्यालय में शुक्रवार की बारिश के बाद पानी भर गया, बताया गया कि सिंधु भवन ने नाले बंद कर दिया था। उधर कांपा सरकारी स्कूल में भी पानी भरा, बच्चे बड़ी मुश्किल से निकलकर घर जा पाए।

पूर्वानुमान- पश्चिम उत्तर बंगाल की खाड़ी और आसपास के क्षेत्र में एक कम दाब का क्षेत्र बना है, जिसके संगत ऊपरी हवा का चक्रवाती घेरा 7.6 किमी की ऊंचाई तक प्रसारित है। रुक-रुककर, बीच-बीच में भारी बारिश होगी।

बारिश के चलते 30 डिग्री के नीचे पहुंचा पारा- बारिश के चलते राजधानी रायपुर में पारा 30 डिग्री के नीचे जा पहुंचा है, जो सामान्य से दो डिग्री कम है। दिन और रात के तापमान में सिर्फ चार डिग्री का अंतर है।