0 पर्यटन के नक्शे में स्थापित करने हो रहे प्रयास

0 तितली पार्क स्थापित करने 20 लाख रुपए की घोषणा

बैकुंठपुर । नईदुनिया न्यूज

आम लोगों का सर्वांगीण विकास और सुरक्षा राज्य शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता हैं। गृहमंत्री रामसेवक पैकरा ने हसदो नदी के तट पर ग्राम अमृतधारा में दो दिवसीय अमृतधारा महोत्सव का शुभारंभ किया। इस दौरान अध्यक्षता श्रममंत्री भइयालाल राजवाडे ने की। मौके पर सांसद डा.बंशीलाल महतो, संसदीय सचिव चंपादेवी पावले, विधायक श्याम बिहारी जायसवाल आदि शामिल हुए।

गृहमंत्री ने लोगों को महाशिवरात्रि की बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि अमृतधारा प्रदेश के प्रमुख जलप्रपातों में से एक है। यहां का मनोरम और सुनहरा दृश्य देखते ही बनता है। आने वाले समय में यह जिले की पहचान बनेगा। श्री पैकरा ने कहा कि पहले दूर दूर तक मात्र एक हायर सेकेण्डरी स्कूल अथवा एक महाविद्यालय होता था। अब प्रत्येक तहसील में महाविद्यालय और 3 किलोमीटर की परिधि में हायर सेकेण्डरी स्कूल खुल रहे है। उन्होंने कहा कि 2003 के पहले सरगुजा संभाग नक्सल प्रभावित माना जाता था। अब यहां नक्सलवाद पूर्णतः समाप्त हो गया है और लोग बिना डर के जीवन यापन कर रहे है। अब बस्तर में भी नक्सलवाद समाप्ति की ओर है। कुछ दिनों के बाद बस्तर से भी नक्सलवाद समाप्त हो जाएगा। तत्पश्चात मुख्य अतिथि ने पर्यटन क्षेत्र में बनाए ब्रोसर का विमोचन किया। इसके पूर्व प्रदेश के गृहमंत्री, श्रममंत्री, संसदीय सचिव पावले ने अमृतधारा स्थित शिव मंदिर जाकर पूजा अर्चना की और प्रदेश के जनता की समृद्घि और खुशहाली की कामना की। उल्लेखनीय है कि विभिन्न विभागों द्वारा राज्य शासन की विकास योजनाओं पर आधारित विकास प्रदर्शनी का भी आयोजन किया गया। इस दौरान जिला एवं सत्र न्यायाधीश विजय कुमार एक्का, अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश नीरज शर्मा, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट राधिका सैनी, एसपी विवेक शुक्ला, जिला पंचायत सीईओ तुलिका प्रजापति, मनेन्द्रगढ़ वनमंडलाधिकारी आरएस नायक, लाई के सरपंच सोनसाय आदि मौजूद थे।

पर्यटन स्थलों को सहजने की है जरूरत

महोत्सव के शुभारंभ में श्रम मंत्री भइयालाल राजवाडे ने कहा कि शासन द्वारा अमृतधारा जलप्रपात को पर्यटक स्थलों के विकास का प्रयास किया जा रहा है। इसे सहेजने की जरूरत है। कोरिया जिले के प्रसिद्घ पर्यटन स्थल अमृतधारा में पर्यटक व सैलानियों के लिए विभिन्न सुविधाओं की व्यवस्था की गई है। जिससे अब आने वाले समय में यह देश व प्रदेश के मानचित्र पर अपनी जगह बनाने कामयाब होगा।

मन को शांति एवं सुख देता है

कोरबा सांसद डा.बंशीलाल महतो ने कहा कि अमरकंटक से निकलने वाली नर्मदा नदी की कपिलधारा और दूधधारा पवित्र है, वैसी ही अमृतधारा पवित्र है। जलप्रपात से गिरने वाला जल अमृत की तरह शुद्घ, पवित्र, मन को शांति एवं सुख प्रदान करता है। मौके पर उन्होंने अमृतधारा जलप्रपात क्षेत्र में तितली पार्क बनाने 20 लाख रुपए प्रदान करने की घोषणा की।

किए जा रहे सार्थक प्रयास

संसदीय सचिव चंपादेवी पावले ने कहा कि प्रकृति ने कोरिया जिले को हसदो नदी के रूप में धरोहर दी है। इसको पुष्पित, पल्लवित करना सबकी नैतिक जिम्मेदारी है। विधायक श्याम बिहारी जायसवाल ने कहा कि अमृतधारा को उसके नाम के अनुरूप विकसित करने में सार्थक प्रयास किया जा रहा है।

40 स्थान किए गए चिन्हांकित

कलेक्टर श्री दुग्गा ने अमृतधारा के विकास के लिए किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि महाशिवरात्रि पर इस वर्ष भी अमृतधारा महोत्सव को आकर्षक और मनमोहक रूप दिया गया है। मौके पर उन्होंने जिले के 40 स्थानों को पर्यटक के रूप में चिन्हांकित कर पर्यटन टूरिस्ट के रूप में विकसित किया जा रहा है।