0- खुशखबरी : दुर्गूकोंदल के किसानों ने बताया कि पहली कोशिश में ही मिले चौंकाने वाले नतीजे

दुर्गूकोंदल। नईदुनिया न्यूज

दुर्गूकोंदल अंचल के किसानों का झुकाव अब मक्का की खेती की ओर हो गया है। इसमें किसानों को काफी फायदा हो रहा है। उनकी आर्थिक स्थिति भी सुधर रही है। अंचल के किसान पूर्व में धान की फसल लेते थे लेकिन उससे होने वाले अन्य लाभ से किसान हमेशा परेशान रहते थे।

कृषि व उद्यान विभाग द्वारा मक्के की खेती की सलाह देने के बाद कुछ किसान इस पर अमल किया इसको देखकर दूसरे किसान भी मक्के की खेती के प्रति प्रेरित हो रहे है। कोंडरूज, गुरदाटोला के किसान हलाल विश्वकर्मा, मोहन उयके, धनाजीराम गावड़े, ओटकसा, चाऊंरगांव, पराली के मोहन पुजारी, रतनसिंह क्वाची, नरसुराम हिड़को, जीवराखन सहारे, रमेश कुमार बढ़ाई, रजमन कवाची ने बताया है कि पहली ही कोशिश में चौंकाने वाले परिणाम सामने आए। इसके बाद अंचल के किसान धान के स्थान पर चारे के लिए मक्के की खेती कर लाखो रुपये का लाभ कमा रहे है।

शुरू में कुछ किसानों ने काफी कम क्षेत्र में मक्के के खेती की थी उसने लाभ देखकर अब अधिक किसान मक्के की ही खेती करने लगे। आज अंचल में हर गांव में मक्के की खेती की जा रही है। क्षेत्र के किसान बिहारीलाल पुड़ो, सामसाय ने बताया कि वे जब से मक्के की खेती कर रहे हैं। हमारी आर्थिक स्थिति में काफी सुधार हुआ है।

पूर्व सरपंच बलराम ध्रुव, जगतराम दुग्गा ने बताया कि उसने अपने जमीन में मक्के की फसल ली थी, जिसमें उन्हें हजारों रुपए की आमदनी हुई। मक्के की फसल लेना काफी आसान है और उत्पादन की लागत भी कम आती है। वहीं ब्लॉक के ग्राम दुर्गूकोंदल, भण्डारडिगी, कोड़ेकुर्से, गुदुम, बागाचार, मेड़ो, गुलालबोड़ी, चेमल, जाड़ेकुर्से, लोहत्तर, दमकसा, बरहेली, हानपतरी, आमागढ़़ में किसान अब मक्के की खेती से प्रेरित होकर यह फसल लेने लगे हैं।