जगदलपुर। दक्षिण-पूर्व मध्य रेल जोन मुख्यालय बिलासपुर में 18 सितंबर को होने वाली सांसदों की बैठक में जोन के अंतर्गत बस्तर में प्रस्तावित नई रेललाइनों को लटकाने का मुद्दा गूजेंगा। सांसद दिनेश कश्यप ने गुरुवार को यहां नयापारा स्थित अपने निवास में पत्रकारों से चर्चा करते हुए बताया कि वे इस बैठक में शामिल होनें बिलासपुर जाएंगे। कश्यप ने कहा कि रायपुर-धमतरी छोटी रेललाइन को ब्राडगेज लाइन में बदलने में हो रही देरी के अलावा धमतरी व्हाया नगरी, अमरावती कोंडागांव, नारायणपुर-दंतेवाड़ा और धमतरी-कांकेर नई रेललाइन के लिए सालों पहले सर्वे पूरा करके इनमें से कुछ लाइनों के लिए डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट भी रेलवे बोर्ड को भेजी जा चुकी है पर काम अभी तक शुरू नहीं हुआ है। इन लाइनों में काम जल्दी शुरू कराने बिलासपुर रेल जोन द्वारा रेलवे बोर्ड को पत्र लिखनें कहा जाएगा। सांसद ने बताया कि इसके अलावा इस बैठक में नारायणपुर, कोंडागांव में कम्प्यूटरीकृत रेल टिकट आरक्षण केन्द्र खोलने के लिए भी प्रस्ताव दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि बस्तर संभाग का काफी बड़ा हिस्सा बिलासपुर रेल जोन में आता है जहां दबाव बनाने की जरूरत है। उन्होंने बताया कि दो दिन पहले ही वे ईस्ट कोस्ट रेल जोन भुवनेश्वर की बैठक में शामिल होकर लौटे हैं और बिलासपुर रेल जोन की बैठक में शामिल होने जा रहे हैं। दोनों बैठकों में रखे गए ऐसे प्रस्ताव जिन पर जोन अथवा मंडल स्तर पर कार्रवाई संभव नहीं है उन सभी विषयों को लेकर वे दिल्ली जाकर जल्दी ही रेलवे बोर्ड के चेयरमेन और रेलमंत्री दोनों के समक्ष रखेंगे। चर्चा के दौरान डीआरयूसीसी मेंबर दिलीप कुशवाहा भी उपस्थित थे।

रेलवे बोर्ड को भेजा राउरकेला एक्सप्रेस के विस्तार का प्रस्ताव

सांसद ने बताया कि 12 सितंबर को वाल्टेयर में हुई सांसदों की बैठक में रेल अधिकारियों ने बताया कि कोरापुट-राउरकेला एक्सप्रेस ट्रेन को जगदलपुर तक बढ़ाने का प्रस्ताव सर्वे करके रेलवे बोर्ड को भेजा जा चुका है। इसके अलावा जगदलपुर और भुवनेश्वर के बीच व्हाया विजयनगरम नई इंटरसिटी ट्रेन चलाने का भी प्रस्ताव भी उनके द्वारा रेलवे को दिया गया है। दिनेश कश्यप ने बताया कि वाल्टेयर की बैठक में जगदलपुर, दंतेवाड़ा, किरंदुल में रिटायरिंग रूम, नाइट एक्सप्रेस के दो नए स्टॉपेज, जगदलपुर में प्लेटफार्म की ऊंचाई बढ़ाने, स्टेशन परिसर में हाईमास्ट लगाने, वॉटर कूलिंग सिस्टम की स्थापना, वाई-फाई की सेवा शुरू करने तथा साफ-सफाई की व्यवस्था आउटसोर्सिंग से कराने आदि पर सहमति बन गई है। अगले तीन माह में इनमें से कई काम शुरू हो जाएंगे।

--