जगदलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

बीएसएनएल को भारत संचार निगम लिमिटेड की बजाय भाई साहब नहीं लगता के रूप में परिभाषित करने वालों के लिए अच्छी खबर है। कंपनी जल्द ही फोर जी सेवा की सौगात देने जा रही है। बिलासपुर के बाद बीएसएनएल यह सेवा बस्तर में लांच करने की तैयारी में है। विभाग ने आगामी 15 अगस्त को इसकी शुरूआत होने की संभावना जताई है। वहीं ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में हाइस्पीड इंटरनेट सुविधा शुरू करने इक्यूपमेंट इंस्टालेशन और टेस्टिंग का काम 60 फीसदी पूरा हो चुका है।

बता दें कि बीते दो साल से जहां निजी कंपनियां ग्राहकों को फोर जी सेवा प्रदान कर रही थीं। वहीं सरकारी नियंत्रण वाली बीएसएनल फेज-08 प्लान लागू होने के बावजूद थ्रीजी के पुराने ढर्‌रे पर ही चल रही थी। इसके चलते ग्राहकों का रूझान निजी कंपनियों की ओर बढ रहा था। केंद्र सरकार ने कंपनी की साख बनाए रखने तथा आधुनिकीकरण के लिए डिजिटल इंडिया स्कीम के तहत सुविधाओं का विस्तार करना शुरू किया है। इसके तहत जहां संभाग के सात जिलों में नए टॉवर लगाए गए हैं। वहीं ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों के टावरों में आवश्यक उपकरण का अपग्रेडेशन तेजी से किया जा रहा है। इंटरनेट की स्पीड बढाने आगामी तीन माह में फोर जी योजना लांच होने के संकेत अधिकारियों ने दिए हैं।

अपग्रेड करना होगा सिम कार्ड्र

फोर जी सेवा प्रारंभ होने के उपरांत उपभोक्ताओं को अपने सिमकार्ड अपग्रेड करने पड़ेंगे। इसके लिए बीएसएनएल जल्द ही सिम अपग्रेड करने एक अभियान शुरू करेगा। जानकारी अनुसार वर्तमान में चल रही 03जी सेवा के लिए 64 के की सिम उपयोग में लाई जा रही है, जिसे अपग्रेड कर 128 के का सिम लगाना जरूरी होगा। फिलहाल जो 03जी सिम चल रहे हैं, उसमें इंटरनेट की स्पीड 12 एमबीपीएस है, जो 04जी प्रारंभ होने के बाद बढ़कर 24 एमबीपीएस तक हो जाएगी।

300 टावर की टेस्टिंग पूरी

बीएसएनएल के 370 टावर में से 300 में 4जी के जरूरी उपकरण लगाकर इसकी टेस्टिंग का काम पूरा कर लिया गया है। बताया गया है कि जल्द ही यह काम दूसरे टावरों में भी पूरा कर लिया जाएगा ताकि उपभेक्ताओं को बेहतर से बेहतर सुविधा मुहैया करवाई जा सके। बीएसएनएल के महाप्रबंधक तोषक मरकाम ने बताया कि 4जी सेवा की शुरूआत 2300 मेगाहाट्स पर होती है। इसमें से 700-800 प्राइम हाट्स पर 4जी सेवा काम करती है। इस सुविधा में किसी प्रकार की बाधा न आए इसलिए बिजली कनेक्शन के साथ आपाताकालीन सेवा के लिए बैटरी पॉवर स्टेशन बनाए जा रहे हैं।

पैरामिलिट्री के लिए सेटेलाइट फोन सेवा

बीएसएनएल संभाग के संवेदनशील इलाकों में तैनात सीआरपीएफ के लिए भी सेटेलाइट फोन सेवा प्रारंभ करने की तैयारी कर रही है। बता दें कि बीजापुर व सुकमा समेत माड़ के कुछ क्षेत्र ऐसे हैं, जहां अब भी टॉवर लगाने में तकनीकी अड़चनें हैं। इन क्षेत्रों में अर्धसैन्य बलों के द्वारा निजी कंपनियों की सेटेलाइट फोन का इस्तेमाल किया जा रहा था। चूंकि यह सेवाएं काफी महंगी साबित हो रही हैं इसलिए केंद्र सरकार ने बीएसएनएल को सेटेलाइट फोन सेवा के निर्देश दिए हैं। बताया गया है कि इसका टैरिफ निजी कंपनियों की तुलना में काफी कम होगा।