रायगढ़। नईदुनिया न्यूज

पुसौर ब्लाक के ग्राम बाघटोला में मनरेगा से तालाब गहरीकरण और नए तालाब के लिए स्वीकृत राशि को फर्जी मास्टर रोल बनाकर राशि हड़पने की शिकायत करने पर स्थानीय रोजगार सहायक द्वारा शिकायतकर्ता के साथ मारपीट का मामला सामने आया है। शिकायतकर्ता ने बताया कि एक सप्ताह पहले जिला पंचायत और जनपद के अधिकारी उक्त पंचायत में जांच के लिए गए हुए थे। जहां उनके सामने रोजगार सहायक और उसके परिवार वालों ने मारपीट शुरू कर दी। शिकायतकर्ता का आरोप कि अधिकारियों की मौजूदगी में हुए घटना के बाद भी रोजगार सहायक के खिलाफ किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की गई है। वहीं मामले में मनरेगा लोकपाल के पास शिकायत दर्ज कराई गई है।

बताया जा रहा है कि घटना एक सप्ताह पहले की है जब मनरेगा के उप अभियंता के साथ पुसौर जनपद के एसडीओ और संबंधित पीओ उक्त पंचायत में तालाब गहरीकरण और नए तालाब के निर्माण में हुए गड़बड़ी की जांच के लिए गए हुए थे। इस दौरान यहां के रोजगार सहायक दिनेश चौहान और उनके परिवार वालों ने शिकायत करने वालों के साथ मारपीट शुरू कर दी। यहां मौजूद अधिकारियों ने इस दौरान सिर्फ पुलिस को मामले की जानकारी दी और इसके बाद उन्होंने रोजगार सहायक के खिलाफ किसी प्रकार के विभागीय कार्रवाई करना जरूरी नहीं समझा। अब शिकायतकर्ताओं का कहना है कि रोजगार अधिकारी को बचाने का प्रयास किया जा रहा है। उनका यह भी आरोप है कि उनके गांव में मनरेगा के तहत किए गए कायोर् में सरपंच से लेकर सचिव ने बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की है। जिसकी जानकारी अधिकारियों को भी है पर कार्रवाई नहीं हो पा रही है। उनका कहना है कि अब इस पूरे मामले में सीधे लोकपाल को लिखित शिकायत करके कार्रवाई की मांग की गई है। वहीं जिला पंचायत के लोकपाल का कहना है कि दोनों की शिकायत उन्हें मिली है और इस मामले में जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।