जशपुनगर। रोजगार का झांसा देकर किशोरी को गुड़गांव के प्लेसमेंट एजेंसी में बेचने के एक मामले में जिला न्यायालय ने बुधवार को दो आरोपियों को 10-10 साल की कठोर कारावास और अर्थदंड सुनाई है।

जुलाई 2012 में लोदाम चौकी क्षेत्र की एक किशोरी के लापता होने की रिपोर्ट उसके माता-पिता ने दर्ज कराई थी। इस बीच दिल्ली में संचालित एक प्लेसमेंट एजेंसी के चुंगल से छूटकर वापस आई एक किशोरी ने लापता किशोरी के अभिभावकों को बताया कि उसको इसी गांव की रहनेवाली कार्मेला टोप्पो पुत्री स्व. तारा टोप्पो अपने साथ दिल्ली ले गई है। महिला के साथ वह भी गई थी।

अब वह किसी तरह वहां से भागकर जशपुर पहुंची है। इस जानकारी के बाद आरोपी महिला से संपर्क कर माता-पिता ने अपनी बेटी को वापस लाने कहा। लेकिन कार्मेला राजी नहीं हुई। इस पर किशोरी की माता पिता ने लोदाम चौकी में 17 दिसम्बर 2012 को नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई । इस पर कार्रवाई करते हुए जशपुर पुलिस की टीम किशोरी की तलाश में नई दिल्ली पहुंची।

यहां पुलिस की टीम को पता चला कि कर्मेला टोप्पो, मो आसिफ और हरिपद दास जशपुर क्षेत्र में मानव तस्करी में संलग्न है। महिला ने किशोरी को इन्ही के प्लेसमेंट एजेंसी में बेचा है। पुलिस ने प्लेसमेंट एजेंसी से किशोरी को 18 मई 2017 को बरामद किया और अभिभावकों को सौंपा।

सरकारी वकील श्याम सहाय ने बताया कि जिला एवं सत्र न्यायीश रजनीश श्रीवास्तव ने मामले की सुनवाई करते हुए कार्मेला को 363 भादस के अंतर्गत पांच साल की कठोर सजा और पांच हजार जुर्माना, जुर्माना नहीं पटाने पर 6 माह का अतिरिक्त कारावास एवं धारा 370,(4) के अंतर्गत 10 वर्ष के कठोर कारावास 10 हजार रुपये जुर्माना, जुर्माना नहीं पटाने पर छह माह का अतिरिक्त सश्रम कारावास और प्लेसमेंट एजेंसी के हरिदास को धारा 370, (4) के अंतर्गत 10 साल का कठोर कारावास 10 हजार रुपये का अर्थदंड, अर्थदंड नहीं पटाने पर छह माह का अतिरिक्त सश्रम कारावास प्राइवेट प्लेसमेंट एजेंसी एक्ट की रा 9 (2) के अंतर्गत तीन साल का कठोर कारावास 20 हजार का अर्थदंड एवं जुर्माना नहीं पटाने पर छह माह का अतिरिक्त सश्रम से दंडित किया है।

सभी सजाएं एक साथ चलेगी साथ ही न्यायालय ने कहा कि अर्थदंड की 45 हजार की दंड की राशि में से 40 हजार रुपये पीड़िता के माता पिता को क्षतिपूर्ति का आदेश दिया है ।