कवर्धा। नईदुनिया न्यूज

संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा घोषित नौ अगस्त को विश्व आदिवासी दिवस मनाया जाता है। इस दिन अंतराष्ट्रीय, राष्ट्रीय, प्रदेश, जिला व विकासखंड स्तर पर आदिवासी समाज के लोग अपने संस्कृति के संरक्षण के लिए हर्षोल्लास पूर्वक मनाते हैं। कबीरधाम जिले में आदिवासियों की संख्या लगभग दो लाख है। जिसके अंतर्गत हलबा, कंडरा, सौरा, अगरिया, धोबा, कंवर, उंराव, गोड़, बैगा, जनजाति के लोग निवास करते हैं। आदिवासी बहुल्य जिला होने के चलते विगत दो-तीन साल से विश्व आदिवासी दिवस पर स्थानीय अवकाश घोषित किए जाने संबंधित सामाजिक संगठनों द्वारा मांगपत्र जिला प्रशासन को सौंपा जा रहा था। जिला अध्यक्ष आसकरण सिंह धुर्वे ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए बताया कि छह दिसंबर 2018 को कलेक्टर ने स्थानीय अवकाश घोषित किया है। इससे समाज में हर्ष का माहौल है। छत्तीसगढ़ अनुसूचित जनजाति शासकीय सेवक विकास संघ जिला कबीरधाम एवं सर्व आदिवासी समाज के पदाधिकारियों ने कलेक्टर अवनीश शरण, पीएस धु्रव (अपर कलेक्टर), सुधीर कुमार सोम (डिप्टी कलेक्टर) से मुलाकात कर अभार व्यक्त किया। जिलाधीश ने उपस्थ्ति सभी पदाधिकरियों को शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर डॉ. संतोष धुर्वे (उप प्रांताध्यक्ष सर्व आदिवासी समाज), आसकरण सिंह धुर्वे ( जिला अध्यक्ष), नारायण लाल मरकाम (संरक्षक), अंजोर सिंह सिदार (जिला उपाध्यक्ष), डॉ. केशव धुव (महासचिव), रमेशचंद्र भवेल (कोषाध्यक्ष), चुरामन धुर्वे, मालिक मरकाम, ब्रिज मेरावी आदि समाज के लोग उपस्थित थे।

-----