पᆬोटोः 8 जानपी 9

परिजन व खुद कर चुके हैं देहदान

जांजगीर-चांपा। नईदुनिया न्यूज। पामगढ़ के समाज सेवक स्व. हिंन्छाराम खरे व स्व. गणेशराम खरे एवं स्व. मनोज कुमार खरे ने सिम्स चिकित्सा महाविद्यालय को शोध गहन अध्ययन के लिए नेत्रदान एवं देहदान किया था। उनकी स्मृति में रक्तदान, नेत्रदान-अंगदान जीवनदान, देहदान, शिक्षादान महादान करने के लिए गांवों में जन जागरूकता अभियान चलाकर लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया जा रहा है।

कृषि वैज्ञानिक प्रक्षेत्र प्रबंधक चंन्द्रशेखर खरे बीते चार सालों से लगातार प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने भ्रष्टाचार मिटाओ-नया भारत बनाओ अभियान के तहत लोगों को भ्रष्टाचार का विरोध करने, भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने के बारे में बताया गया। उन्होंने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत आज की बेटी कल का हमारा भविष्य जो भावी नेता, वैज्ञानिक अधिकारी बनेंगे कैरियर मार्गदर्शन देते हुए हमारे जिले में धान फसल की कटाई पश्चात फैले पैरा को एकत्रित कर अवशेष नहीं जलाने का आग्रह किया। इसके साथ पैरे को ट्राइकोडर्मा द्वारा जैविक खाद बनाने की वैज्ञानिक विधियों के बारे में बताया। कार्यक्रम में ग्राम पेन्ड्री, कनई, जांजगीर, नवापारा के 42 कृषकों एवं युवाओं को कृषक समृद्घि व पर्यावरण को प्रदूषण से बचाने, समन्वित कृषि प्रणाली की विस्तार से जानकारी दी गई। ज्ञात हो कि चंद्रशेखर खरे अपने दादा, पिता एवं भैया के सेवाभाव एवं समर्पण से प्रभावित होकर चंन्द्रशेखर खरे सहित उनकी पत्नी श्रीमती सुमन खरे ने भी नेत्रदान-अंगदान, देहदान करने की घोषणा की है।

-----------------