0 शेष राशि के लिए दिया था चेक पर नहीं किया भुगतान

कोरबा। नईदुनिया प्रतिनिधि

65 लाख रूपए में गिट्टी क्रेशर मशीन का सौदा करने के बाद एक ट्रांसपोर्टर ने क्रेशन मशीन के मालिक को 10 लाख रुपए एडवांस दिया और शेष राशि किश्तों में देने के एवज में 6 चेक प्रदान किया, लेकिन उसने चार साल गुजर जाने के बाद भी राशि नहीं दी। पुलिस ने इस मामले में ट्रांसपोर्टर के खिलाफ अमानत में खयानत का मामला पंजीबद्घ किया है। कोरबा के पावर हाउस में रहने वाले दीपक अग्रवाल पिता शिवशंकर अग्रवाल (45) का क्रेशर मशीन जांजगीर-चांपा जिले में स्थापित था। यहां से गिट्टी सप्लाई का काम किया जा रहा था। दीपक क्रेशर मशीन बेचना चाहता था, इसकी जानकारी नैला में रहने वाले श्री राणी सती टांसपोर्ट कंपनी के मालिक महेंद्र कुमार मित्तल ने वर्ष 5 जुलाई 2014 को दीपक से संपर्क किया और 65 लाख रुपए में सौदा तय हुआ। 10 लाख रूपए एडवास देने के बाद वर्ष 2017 तक 6 किश्त में पूरी रकम चुका देने का अनुबंध किया था। साथ ही उसने 6 चेक भी दीपक को प्रदान किया था, जो बाद में बाउंस हो गया। निर्धारित तिथि पर पैसा नहीं पटाया और क्रेशर मशीन पर भी कब्जा जमाए रखा। इस बीच महेन्द्र ने क्रेशर मशीन को अलग-अलग पार्ट मे बेचना शुरू कर दिया। दीपक मशीन पर दुबारा कब्जा करने अपने सहयोगियों के साथ पहुंचा तो आधे से ज्यादा क्रेशर मशीन का हिस्सा बेचा जा चुका था। इस घटना की शिकायत चांपा थाना में की गई। पुलिस ने शून्य में आरोपी के खिलाफ अमानत में खयानत का अपराध धारा 406, 418, 420 के तहत पंजीबद्घ कर जांच के लिए कोतवाली कोरबा को प्रेषित कर दिया गया है।