कोरबा। दहलीज में बारात आने से पहले जब दुल्हन प्रेमी के साथ बिना फेरे लिए फरार हो गई तो दुल्हन की छोटी बहन को ही हल्दी लगाकर उसे मण्डप में बिठाने की तैयारी हो गई। समय पर महिला एवं बाल विकास को सुचना मिल जाने पर नाबालिग को फेरे लेने से पहले ही रोक दिया गया। इस मामले की दिलचस्प कहानी यह है कि दोनों लड़कियों सहित लड़का भी नाबालिग है।

मोती सागर पारा स्थित इस घर में शहनाई बजने वाली थी यहां रहने वाले एक शख्‍स की पुत्री की शादी के लिए जब मंडप सजाया गया वह मंडप की रात थी अपने प्रेमी संग फरार हो गई इस आपदा से निपटने के लिए शख्‍स अपनी नाबालिग पुत्री को दुल्हन बनाने के लिए तैयार हो गया।

जिसकी शादी होनी थी वह 16 साल की थी और उसकी छोटी बहन 15 साल की है ऐसे में विवाह वैधानिक नहीं था जब पुलिस को इसकी सूचना मिली तो वह महिला एवं बाल विकास अधिकारी की टीम के साथ मौके पर पहुंची और समझाइश देते विवाह रुकवाया गया।

सामाजिक मान्यताओं और वर्जनाओं से भयभीत परिवार ने अपनी नाबालिग पुत्री को बलि का बकरा बनाने को तैयार था सही समय पर सूचना मिल जाने से एक अनर्थ होते-होते टल गया।