पाली(कोरबा)। इसे भक्ति की पराकाष्ठा कहें या अंधविश्वास की हद, एक महिला ने अपनी जीभ काटकर शिवलिंग में अर्पित कर दी। उसने ऐसा इसलिए किया, ताकि भगवान शिव उसकी मन्नत पूरी करें।

यह घटना पाली के ग्राम नुनेरा की है, जहां की रहने वाली 28 साल की सीमाबाई पति फिरतूराम गोंड़ ने तालाब पर स्थित शिवमंदिर में महाशिवरात्रि के दिन ब्लेड से जीभ काटकर शिवलिंग पर चढ़ा दी।

पाली विकासखंड अंतर्गत ग्राम नुनेरा में तालाब किनारे स्थित शिवमंदिर मंदिर में महाशिवरात्रि पर्व पर जहां लोग शिवलिंग पर दर्शन कर जल-दूध व धतूरा अर्पण करने पहुंच रहे थे, गांव की रहने वाली सीमाबाई अपनी भक्ति साबित करने सीमाबाई सुबह करीब 11 बजे मंदिर पहुंची और अपनी जीभ काटकर चढ़ा दी।

जीभ काटने के बाद महिला वहीं गिर पड़ी और शिवलिंग के पास लेट गई। बताया जा रहा कि अपनी अधूरी मन्‍नत को पूरा करने की जिद में उसने यह कदम उठा लिया।

परिजनों को पता नहीं था

पति फिरतूराम ने कहा कि पत्नी की शुरू से ही शिव के प्रति गहरी आस्था रही है। उसने अपने इस कदम के बारे में उनसे भी कुछ नहीं कहा था और जीभ काटने की जानकारी ग्रामीणों से मिली। श्रद्धा का परिचय इस तरह से देने के फेर में उसने अज्ञानता की वजह से अंधविश्वास के वशीभूत होकर जीभ काटने की घटना को अंजाम दे डाला। जीभ काटने से उसके मुंह से खून निकलने लगा और मंदिर में खून फैल गया। काफी समझाने के बाद भी वह अस्पताल जाने को तैयार नहीं थी।