महासमुंद। पानी की तलाश में वन्य जीवों के रिहायशी क्षेत्रों में प्रवेश की घटनाएं लगातार सामने आ रही है। बुधवार की सुबह साढ़े चार बजे शहर के वार्ड क्रमांक 18 स्थित दर्री तालाब पहुंचकर भालू ने पहले प्यास बुझाई। फिर बाद भागते हुए भालू ने मौहारी भाठा निवासी नारायण पिता विश्वनाथ यादव 40 व देवराज विश्वकर्मा पिता झब्बू विश्वकर्मा 25 पर हमला किया।

कुत्तों के भौंकने और दौड़ने से दोनों नागरिक हमले से बच पाए, वहीं भालू खुद को बचाते हुए सितली नाला की ओर दौड़ा। इधर भी भालू को कुत्तों ने घेर लिया, जिससे जान बचाते भागा भालू कुम्हारपारा स्थित मन्नू प्रजापति के घर के आंगन में घुस गया। मन्नू के बेटे शुभम की शादी हो रही है।

मंगलवार को परिजन कुकरा आरंग बारात गए थे। बारात बुधवार सुबह तक लौटी नहीं थी। लिहाजा घर पर महिला सदस्य ही मौजूद थीं। यहां भालू ने आंगन में ही बने रसोई में जाकर भात खाकर भूख मिटाई। आंगन में ही जमीन पर सो रही मन्नू की पत्नी राधा उम्र 40 वर्ष को लगा कि आज फिर कोई सुअर घुस आया है।

बर्तन की आवाज सुनकर सुअर भगाने के इरादे से उठी राधा पर भालू ने हमला किया। जिससे राधा बाई दौड़कर पड़ोस के घर में घुस गई। शादी समारोह में शामिल होने आरंग से आई नीरा पति रामगोपाल 50 खाट पर सोई थी, जिस पर भालू ने हमला कर पैर को बुरी तरह से जख्मी किया।

शोरगुल से उठे घर के अन्य सदस्यों ने नीरा को किसी तरह से घर के भीतर लाया और दरवाजा बंद किया। जिस पर भालू ने दरवाजा को खोलने का प्रयास किया और दरवाजा पर पंजा मारा। इधर कुत्तों के भौंकने से डरा भालू खुद को बचाने के लिए शिव चंद्राकर के घर से लगे बाड़ी की ओर भागा और सूखे कुएं में गिर गया।

दर्री तालाब में दो लोगों के हमले के बाद से ही पुलिस और वन विभाग को शहर में भालू घुसने की सूचना मिल गई थी। इधर अमला भालू की खोज खबर में निकल गया था। बाद प्रजापति परिवार से पुलिस को सूचना मिली।

जिससे भालू के कुएं में गिरने के बाद तुरंत वन अमला मौके पर पहुंच गया। अमले ने घायलों को उपचार के लिए जिला अस्पताल दाखिल कराया। जहां तीन लोगों को सामान्य उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई, जबकि नीरा की हालत गंभीर होने के कारण मेडिकल कालेज हास्पीटल रायपुर रिफर किया गया।

घटना के बाद से क्षेत्र के लोगों में दशहत कायम है। एसडीओ वन अतुल श्रीवास्तव, परिक्षेत्र अधिकारी मनोज चंद्राकर की अगुवाई में वन अमला 60 फीट गहरा कुएं में गिरे भालू को निकलने मुस्तैदी से डटा हुआ है। वहीं रायपुर से भी रेस्क्यू के लिए टीम बुलाई गई है।

पुलिस से मिला गैर जिम्मेदार जवाब परिजन मन्नू प्रजापति घर के सदस्यों ने बताया कि जब भालू ने हमला किया तो पहले नीरा बाई को कमरे के भीतर लाकर दरवाजा बंद किया गया, बाद पुलिस को फोन पर सूचना दी गई। लेकिन पुलिस की ओर से जवाब गैर जिम्मेदार मिला, बताया गया कि पुलिस ने कहा कि घर में भालू घुस गया है तो हम क्या कर सकते हैं।