महासमुंद। नईदुनिया प्रतिनिधि

जनादेश-2018 के लिए काउंटिंग का काउन डाउन शुरू होते ही प्रत्याशियों की दिल की धड़कन तेज हो गई है। आस्थावान प्रत्याशियों ने जहां मंदिर-मंदिर जाकर मत्था टेका, वहीं कुछ लोगों ने कर्म को ही पूजा मानकर व्यस्त रहे। कुछ ने पूरा दिन परिवार के साथ बिताया और फोन पर मतगणना की तैयारी के लिए कार्यकर्ताओं को रिचार्ज करते रहे। एक उम्मीदवार ने छोटे भाई के घर पहुंचकर मां का आशीर्वाद लेने के साथ ही ग्रामीण क्षेत्र का दौरा प्रारंभ किया। दूरस्थ अंचल बसना, सरायपाली के उम्मीदवार और गणना अभिकर्ता महासमुंद पहुंचकर रात विश्राम कर रहे हैं। मतगणना के एक दिन पहले राजनीतिक गलियारे में भी एक ही चर्चा रही किसकी बनेगी सरकार?

महासमुंद जिले में चार विधानसभा सरायपाली, बसना, खल्लारी और महासमुंद है। इनमें जिला मुख्यालय महासमुंद विधानसभा सीट पर सबकी निगाहें टिकी है। यहां पांच कद्दावर प्रत्याशी होने से मुकाबला रोमांचक हो चला है। अनुमान यह लगाया जा रहा है कि हार-जीत का अंतर हजार नहीं सैकड़ा में आकर अटक जाए तो आश्चर्यजनक नहीं। इस कदर कांटे की टक्कर के बीच सभी का जीत का अपना-अपना दावा है। संयोग से मतगणना मंगलवार को पड़ रहा है। यह किसके लिए मंगलकारी और किनके लिए अमंगलकारी साबित होगा? इसकी भी चर्चा हो रही है।

पूनम हनुमान चालीसा पाठ करके जाएंगे मतगणना स्थल

भाजपा उम्मीदवार व पूर्व राज्यमंत्री पूनम चंद्राकर हनुमानजी के भक्त हैं। नियमित दिनचर्या में स्नान-ध्यान के बाद घर में आधा घंटा पूजा-पाठ करते हैं। बहरहाल, सोमवार को पूनम पूरे दिन घर पर रहकर परिजनों के साथ बीताया। घर से ही गणना अभिकर्ताओं से बातचीत कर लाइनअप करते रहे। मंगलवार को सुबह जल्दी उठकर स्नान-ध्यान के बाद हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे। बाद तैयार होकर देवी दर्शन पश्चात मतगणना स्थल पर पहुंचेंगे।

मंदिर-दरगाह-गुरुद्वारा पहुंचे विनोद, कुलेदवी महामाया का दर्शन कर जाएंगे गणनास्थल

कांग्रेस उम्मीदवार विनोद चंद्राकर तिरुपति बालाजी के भक्त हैं। आस्थावान विनोद चंद्राकर ने सोमवार को दिन की शुरुआत कचहरी चौक स्थित संकटमोचन हनुमान मंदिर में प्रसाद चढ़ाने से की। बाद पूरे दिन मंदिर, दरगाह और गुरुद्वारा पहुंचकर मत्था टेका। मंगलवार को सुबह चार बजे से मंदिरों में जाने का कार्यक्रम बनाया है। अलसुबह नगर की कुलदेवी महामाया का दर्शन करने के बाद कनेश्वरनाथ महादेव कनेकेरा जाएंगे। वहां से लौटकर माता-पिता का आशीर्वाद लेकर गणनास्थल जाएंगे। सोमवार को रायपुर के चिराग बाबा के दरगाह में पहुंचकर मत्था टेका। इसके साथ ही इष्टदेव की पूजा-अर्चना की। गुरुद्वारा पहुंचकर भी मत्था टेका।

मतगणना स्थल जाने से पहले तीन मंदिर जाएंगे विधायक चोपड़ा

चुनाव परिणाम को लेकर विधायक और निर्दलीय प्रत्याशी डॉ. विमल चोपड़ा पूरी तरह से आश्वस्त रहे। मतगणना से एक दिन पहले की दिनचर्या हर दिन की तरह रही। सुबह सात बजे उठकर नित्यकर्म के बाद नाश्ता और अखबार पर नजर डालने के बाद कार्यकर्ताओं से फोन पर बातचीत की और मतगणना की तैयारियों की समीक्षा की। बाद 10 बजे से मरीजों का नब्ज टटोला, दवा लिखने का क्रम दोपहर ढाई बजे तक चलता रहा। अस्पताल में मरीजों को देखने के बाद दोपहर का भोजन, कुछ देर आराम और परिजनों के साथ बीताने के बाद शाम चार बजे से ग्रामीण व शहर क्षेत्र में समारोहों में शामिल होने निकले। डॉ. चोपड़ा ने कहा कि उन्होंने चुनाव परिणाम की परवाह नहीं की। जनता ने जो भी जनादेश दिया वे उसे स्वीकार करेंगे। उनका कार्य जनसेवा है, चाहे वह राजनीति हो या चिकित्सा, हमेशा जारी रहेगा। डॉ. चोपड़ा ने कहा कि मंगलवार को सुबह पांच बजे उठेंगे। नित्यकर्म के बाद मां दुर्गा मंदिर, महामाया मंदिर और जैन मंदिर जाने के बाद सुबह सात बजे मतगणना स्थल पहुंचेंगे।

मंदिर-मंदिर घुमते रहे त्रिभुवन, पूजा-पाठ करके पहुंचेंगे गणनास्थल

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ उम्मीदवार त्रिभुवन महिलांग सोमवार को पूरे दिन मंदिर-मंदिर घुमते रहे। मंगलवार को अलसुबह तैयार होकर पूजा-पाठ और आसपास के मंदिरों में फूल-पत्र चढ़ाने के बाद गणनास्थल पहुंचने का कार्यक्रम बनाए हैं। देवी दर्शन के लिए घुंचापाली चंडी माता मंदिर गए। सिरपुर पहुंचकर गंधेश्वरनाथ महादेव का दर्शन किया। इसके साथ ही गणना अभिकर्ताओं को भी एक बजे बैठक लेकर मतगणना के दौरान की बारीकियां समझाई।

मां का आशीर्वाद है मेरे साथ, कार्यकर्ताओं का आभार जताने निकले

निर्दलीय उम्मीदवार मनोजकांत साहू सोमवार को पूरे दिन क्षेत्र में घुम-घुमकर कार्यकर्ताओं का आभार जताते रहे। इसके साथ ही अंतिम परिणाम के पूर्वानुमान को लेकर टटोलते रहे। मनोजकांत साहू की मां छोटे भाई के घर थीं। वे दौरा पर निकलने से पहले मां रामबाई साहू का आर्शीवाद लेने पहुंचे। मां से कुशलक्षेम पूछा और जीत के लिए आर्शीवाद लिया। मंगलवार की सुबह दरगाह में मत्था टेकने के साथ ही बजरंगबली मंदिर और गुरुद्वार में मत्था टेकने के बाद मतगणना स्थल पहुंचेंगे। मां का आर्शीवाद एक दिन पहले ही ले लिया है।

----

जिला संगठन को इस तरह जाएगी पल पल की रिपोर्ट

कांग्रेस जिलाध्यक्ष आलोक चंद्राकर व भाजपा जिलाध्यक्ष इंद्रजीत सिंह गोल्डी ने बताया कि मतगणना केंद्र में पब्लिक बूथ बनाया गया है। यहां लैंडलाइन फोन है। सभी विधानसभा के प्रत्याशी को निर्देशित किया गया है कि प्रत्येक चक्र के समापन पर वे वहां से कॉल कर पार्टी के संबंधित पदाधिकारी को जानकारी देंगे। साथ ही प्रत्याशियों को कहा गया है कि मतगणना समाप्ति के बाद वे जीत का प्रमाण पत्र लेकर लौटें। यह भी कहा गया है कि प्रत्येक चक्र के बाद आरओ उद्घोषणा करेंगे। निर्वाचन आयोग की वेबसाइट पर चक्रवार जानकारी ली जाएगी।

खल्लारी और बसना में त्रिकोणीय, महासमुंद में पंचकोणीय मुकाबला

सरायपाली विधानसभा

इस बार ठीक चुनाव के दौरान सरायपाली में बसपा प्रत्याशी छबिलाल रात्रे के कांग्रेस प्रवेश कर लेने से चुनाव मुख्य रूप से कांग्रेस के किस्मत लाल नंद और भाजपा के श्याम तांडी के मध्य रहा। लिहाजा यहां लोगों का अनुमान है कि जो भी प्रत्याशी जीतेगा, जीत का अंतर 10 हजार मतों से अधिक ही रहेगा। सरायपाली में इस बार 83.04 फीसद मतदान हुआ है।

यहां वर्ष 2013 के चुनाव में सरायपाली विधानसभा क्षेत्र के भाजपा प्रत्याशी रामलाल चौहान ने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के डॉ. हरिदास भारद्वाज को 28832 मतों के अंतर से पराजित किया था। चौहान को 82064 मत और डॉ. भारद्वाज को 53232 मत मिले थे। तब यहां 83.20 फीसद मतदान हुआ था।

बसना विधानसभा

बसना विधानसभा क्षेत्र में इस बार त्रिकोणीय मुकाबला है। यहां कांग्रेस के देवेंद्र बहादुर सिंह, भाजपा के दुर्गाचरण पटेल के अलावा भाजपा के बागी संपत अग्रवाल के मध्य मुकाबला बताया जा रहा है। लोगों का कहना है कि इस बार यहां जीत का अंतर हजार से दो हजार के मध्य रहेगा। बसना क्षेत्र में इस बार 85.37 फीसद मतदान हुआ है।

वर्ष 2013 में बसना विधानसभा क्षेत्र में भाजपा की रूपकुमारी चौधरी ने कांग्रेस के देवेंद्र बहादुर सिंह को 6239 मतों के अंतर से पराजित किया था। रूपकुमारी को 77137 मत और देवेंद्र बहादुर 70898 मत मिले थे। तब यहां 84.12 फीसद मतदान हुआ था।

खल्लारी विधानसभा

खल्लारी में इस बार मुकाबला त्रिकोणीय फंसा है। यहां भाजपा की मोनिका साहू, कांग्रेस के द्वारिकाधीश यादव और जनता कांग्रेस छग के परेश बागबाहरा के मध्य मुकाबला बताया जा रहा है। यहां भी लोगों का कहना है कि जीत का अंतर हजार से दो हजार के मध्य रहने का अनुमान है। यहां इस बार 83.28 फीसद मतदान हुआ है।

वर्ष 2013 के चुनाव में खल्लारी विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के चुन्नीलाल साहू ने कांग्रेस के परेश बागबाहरा को 5999 मतों के अंतर से पराजित किया था। चुन्नीलाल को 58652 और परेश 52653 वोट मिले थे। तब यहां 84.22 प्रतिशत मतदान हुआ था।

महासमुंद विधानसभा

महासमुंद विधानसभा में इस बार पंचकोणीय मुकाबला है। यहां भाजपा के पूनम चंद्राकर, कांग्रेस के विनोद चंद्राकर, जकांछ के त्रिभुवन महिलांग के अलावा निर्दलीय डॉ. विमल चोपड़ा और कांग्रेस के बागी निर्दलीय मनोजकांत साहू के मध्य कांटे की टक्कर है। लोगों का कहना है कि यहां जीत का अंतर तीन अंक से दो अंक तक भी हो जाए तो इसमें आश्चर्य नहीं होना चाहिए। इस बार मतदान 80.53 फीसद हुआ है।

वर्ष 2013 के चुनाव में महासमुंद विधानसभा में निर्दलीय डॉ. विमल चोपड़ा ने कांग्रेस के अग्नि चंद्राकर को 4722 मतों के अंतर से पराजित किया था। डॉ. विमल को 47416 मत और अग्नि को 42694 मत मिले थे। तब यहां 81.39 फीसद मतदान हुआ था।

चुनाव आयोग को इस तरह भेजेंगे रिपोर्ट

संयुक्त कलेक्टर एसके तिवारी के अनुसार मतगणना केंद्र से राज्य निर्वाचन कार्यालय को जानकारी देने सभी आवश्यक संसाधन मतगणना केंद्र में लगाए गए हैं। यहां एनआइसी के अधिकारी मौजूद रहेंगे। प्रत्येक चरण की मतगणना पूरी होने पर आरओ और आब्जर्वर के संयुक्त हस्ताक्षर से जानकारी राज्य निर्वाचन आयोग को भेजी जाएगी। यह जानकारी ई-मेल और फैक्स दोनों से भेजी जाएगी। मतगणना केंद्र में उद्घोषणा स्थल के पास कंप्यूटर, ब्राड बैंड, नेट कनेक्टीविटी और प्रिंटर, फैक्स मशीन रखे गए हैं।

व्यस्तता इतनी कि दोपहर का भोजन नहीं हुआ नसीब

निर्वाचन की सभी जिम्मेदारियों को भली भांति संभाल रहे उप जिला निर्वाचन अधिकारी बीएस मरकाम अन्य दिनों की अपेक्षा सोमवार को अधिक व्यस्त रहे। सुबह नौ बजे से ही वे ही मतगणना केंद्र में डटे रहे। कहां पर क्या रहेगा, सीसीटीवी, डिस्प्ले मानिटर, उद्घोषणा मंच, एनआइसी अधिकारियों व टीम की बैठक व्यवस्था सहित मतगणना की तमाम जिम्मेदारियों को निभाते मरकाम को दोपहर का भोजन करने वक्त ही नहीं मिला। मतगणना कार्य के लिए मतगणना केंद्र में जिला प्रशासन और उप जिला निर्वाचन अधिकारी की तमाम व्यवस्थाओं में बदलते मौसम ने चिंता बढ़ाई। मौसम परिवर्तन के मद्देनजर आनन-फानन में वाटरप्रूफ पंडाल लगवाए गए, जिससे यदि मंगलवार को बारिश हो, तो भी कोई अव्यवस्था न होने पाए। अपनी मौजूदगी में ही उप जिला निर्वाचन अधिकारी बीएस मरकाम ने मतगणना की तैयारियों का पूर्वाभ्यास कराया।

गणनास्थल में ही अंतिम रिहर्सल और प्रशिक्षण

जिला निर्वाचन अधिकारी हिमशिखर गुप्ता के मार्गदर्शन एवं निर्देश में मतगणना के लिए तैयारियां पूरी कर ली गई है। कृषि उपज मंडी पिटियाझर में चारों विधानसभाओं के लिए मतगणना केन्द्र बनाए गए हैं। यहां मतगणना कार्य में लगे अधिकारी एवं कर्मचारियों को अंतिम चरण का प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण के दौरान विधानसभा निर्वाचन 2018 के लिए नियुक्त सामान्य प्रेक्षक, जिला पंचायत सीईओ ऋतुराज रघुवंशी, अपर कलेक्टर शरीफ मोहम्मद खान, आलोक पांडेय, सरायपाली एसडीएम विनय कुमार लंगेह, उप जिला निर्वाचन अधिकारी बी.एस. मरकाम सहित सहायक रिटर्निंग आफिसर एवं अन्य अधिकारी विशेष रूप से उपस्थित थे। इस दौरान सबसे पहले मतगणना कार्य में लगे अधिकारियों एवं कर्मचारियों का सामान्य प्रेक्षकों की उपस्थिति में विधानसभावार रेंडमाईजेशन किया गया।

समय पर मतगणना स्थल पर पहुंचने, अधिकारी एवं कर्मचारियों के लिए प्रवेश के लिए बेरिकेटिंग कर गेट निर्धारित किए गए हैं। मतगणना दिवस के दिन रेंडमाईजेशन के जरिए मतगणना कर्मचारियों की निर्धारित टेबल की जानकारी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि कर्मचारी-अधिकारीगण मोबाइल इत्यादि मतगणना स्थल पर लेकर नहीं आएंगे। उन्होंने कहा कि सबसे पहले डाक मत पत्र की गिनती की जाएगी।

--